india-active-internet-users-population-to-hit-90-crores-2025

Total Internet Users in India?: इस बात में कोई शक नहीं है कि स्मार्टफोन यूजर्स की संख्या देश में तेज़ी से बढ़ रही है, और ये साफ़ दर्शाता है देश में इंटरनेट की बढ़ती खपत को भी। आँकड़ो के लिहाज़ से बात करें तो 2020 में भारत में कुल क़रीब 62.2 करोड़ एक्टिव इंटरनेट यूज़र्स थे। लेकिन अब एक नई रिपोर्ट में ऐसा दावा किया गया है कि आने वाले तीन से चार सालों यानि 2025 तक देश में ये एक्टिव इंटरनेट यूज़र्स का आँकड़ा 90 करोड़ तक पहुंच जाएगा। बता दें भारत की आबादी क़रीब 140 करोड़ के लगभग आँकी जाती है।

जी हाँ! इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (IAMAI) और डेटा एनालिटिक फ़र्म Kantar के द्वारा जारी की गई एक रिपोर्ट के अनुसार 2020 के मुक़ाबले देश में 2025 तक एक्टिव इंटरनेट यूज़र्स (यानि इंटरनेट इस्तेमाल करने वाली लोग) की संख्या में 45% तक की वृद्धि देखने को मिल सकती है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

दिलचस्प ये है कि रिपोर्ट के अनुसार जहाँ भारत के शहरी क्षेत्रों में इंटरनेट की पहुंच ग्रामीण क्षेत्रों की तुलना में 2 गुना अधिक है, वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में यूज़र्स की सालाना वृद्धि दर तेज़ी से बढ़ रही है।

साल 2020 के आँकड़े के अनुसार शहरी भारत में इंटरनेट यूज़र्स की संख्या में 4% की वृद्धि के साथ आंकड़ा 32.3 करोड़ (शहरी आबादी का 67%) पहुंच गया है।

Total Internet Users in India

वहीं देश के ग्रामीण क्षेत्र भी इंटरनेट इस्तेमाल के मामले में पीछे ना रहते हुए 2020 तक 13% की वृद्धि दर के साथ इंटरनेट यूज़र्स 29.9 करोड़ के पार (ग्रामीण आबादी का क़रीब 31%) पहुँच जा चुका है।

इस रिपोर्ट के अनुसार, इंटरनेट इस्तेमाल करने में उपयोगी डिवाइसों के मामले में “मोबाइल” अभी भी शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों की पहली पसंद है। इस बात में कोई शक नहीं है कि ये ट्रेंड देश में Jio के आने के बाद और बढ़ा है, या कहें तो Jio के आने के बाद से ही, सस्ते 3G/4G डेटा प्लान्स आदि के चलते देश में इंटरनेट क्षेत्र में नई क्रांति देखने को मिली है।

Internet Users in India: क्या कहते हैं आँकड़े?

रिपोर्ट के अनुसार हर 10 एक्टिव इंटरनेट यूज़र्स में से 9, हर दिन इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं। और वे औसतन प्रतिदिन क़रीब 107 मिनट (1.8 घंटे) इंटरनेट पर बिताते हैं।

और ये भी सामने आया है कि देश के ग्रामीण हिस्से के मुक़ाबले शहरी क्षेत्र में हर दिन इंटरनेट इस्तेमाल करने वालों की संख्या थोड़ी अधिक है। वहीं शहरी क्षेत्रों में इंटरनेट यूज़र्स ग्रामीण क्षेत्रों के यूज़र्स की तुलना में 17 प्रतिशत अधिक समय बिताते हैं।

ग़ौर करने वाली बात ये भी है कि छोटे शहरों में हर पांच में से 2 एक्टिव इंटरनेट यूज़र्स आते हैं, वहीं अकेले टॉप 9 मेट्रो शहरों से ही शहरी क्षेत्रों के कुल 33% एक्टिव इंटरनेट यूज़र्स आते हैं।

एक और दिलचस्प बात, रिपोर्ट कहती है कि ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों एक्टिव इंटरनेट यूज़र्स के मामले में पुरुषों और महिलाओं का अनुपात क़रीब-क़रीब समान है। जी हाँ! शहरी भारत में पुरुष के मुक़ाबले महिला इंटरनेट यूज़र्स का अनुपात जहाँ क़रीब 57:43 है, वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में ये 58:42 है।

वहीं ये भी कहा गया है कि आने वाले सालों में स्थानीय भाषा आधारित वॉयस, वीडियो व अन्य डिजिटल कंटेंट गेम चेंजर साबित हो सकते हैं ।

जाते-जाते आपको बता दें कि देश में क़रीब 17% एक्टिव इंटरनेट यूज़र्स पर्सनल कंप्यूटर का इस्तेमाल करके इंटरनेट तक पहुँच बनाते हैं, वहीं 6% टैबलेट, स्ट्रीमिंग डिवाइस, स्मार्ट स्पीकर और स्मार्ट टीवी जैसे अन्य डिवाइसों के ज़रिए इंटरनेट इस्तेमाल करते हैं।