what-is-x-ray-setu-whatsapp-bot-how-it-works

Xray Setu WhatsApp Bot: भारत की केंद्र सरकार ने आख़िरकार आधिकारिक तौर पर एक्स-रे सेतु व्हाट्सएप बॉट (X-Ray Setu WhatsApp Bot) सेवा को लॉन्च कर दिया है। आपको बता दें महामारी के ख़िलाफ़ जंग में ये सेवा मुख्यतः देश के ग्रामीण इलाक़ों में मददगार साबित होगी।

असल में आर्टिफ़िशल इंटेलिजेन्स आधारित ये एक्स-रे सेतु व्हाट्सएप बॉट (X-Ray Setu WhatsApp Bot) सुविधा एक्स-रे रिपोर्ट के ज़रिए कोविड-19 संक्रमण का पता लगाने के लिहाज़ से पेश की गई है। ये ऐसे ग्रामीण या दूर-दराज के इलाक़ों में कारगर साबित होगी, जहाँ टेस्टिंग के लिए आरटी-पीसीआर (RT-PCR) या सीटी स्कैन (CT-Scan) की सुविधा आसानी से उपलब्ध नहीं होती है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

किसने बनाया X-Ray Setu WhatsApp Bot?

इस एक्स-रे सेतु (Setu) को एक गैर-लाभकारी संगठन, आर्टपार्क (Artpark) द्वारा बनाया गया है, जिसमें भारतीय विज्ञान संस्थान (IISc) और स्टार्टअप Niramai ने भी मदद की है। जैसा हमनें पहले भी बताया कि इसमें आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (AI) तकनीक का इस्तेमाल किया गया है।

how-xray-setu-works
Credit: XraySetu

इसके विकास के लिए इंटरडिसिप्लिनरी साइबर-फिजिकल सिस्टम्स राष्ट्रीय मिशन के तहत, Artpark को विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार से ₹230 करोड़ का फंड मिला। इसके साथ ही इसको कर्नाटक सरकार और IISc का सपोर्ट मिला हुआ है, जिसके ज़रिए एआई और रोबोटिक्स-आधारित तकनीक को लेकर इनोवेशन की कोशिश की जा रही है।

कैसे काम करता है Xray Setu WhatsApp Bot?

एक्स-रे सेतु के ज़रिए स्वास्थ्य जांच के लिए किसी भी डॉक्टर को सबसे पहले www.xraysetu.com पर जाना होगा। इसके बाद ‘Try the free XraySetu Beta’ के विकल्प पर क्लिक करना होगा।

ऐसा करने के बाद यूज़र को ‘Chat on WhatsApp with XraySetu‘ का विकल्प नज़र आएगा, जिस पर क्लिक करके उनके WhatsApp वेब या स्मार्टफोन एप्लीकेशन पर ये व्हाट्सएप-आधारित चैटबॉट की विंडो ओपन हो जाएगी।

इसके बाद सामने आए WhatsApp नंबर या कहें तो व्हाट्सएप चैट विंडो पर यूज़र को एक्स-रे भेजना होगा और इसके बाद सटीक तस्वीरों के साथ दो पेज की ऑटोमेटेड डायग्नोस्टिक ‘रिपोर्ट’ उनको मिल जाएगी। दिलचस्प ये है कि इस पूरी प्रक्रिया में सिर्फ़ 10 से 15 मिनट या अधिकतम 30 मिनट के भीतर ही रिपोर्ट मिल जाएगी।

इस व्हाट्सएप आधारित चैट बॉट के ज़रिए कोविड-19 के अलावा तपेदिक व निमोनिया सहित फेफड़ों से संबंधित 14 अन्य बीमारियों का भी पता लगाया जा सकता है।

दिलचस्प ये है कि एक्स-रे सेतु (Xray Setu) का इस्तेमाल एनालॉग और डिजिटल दोनों तरह के एक्स-रे के साथ किया जा सकता है।

Xray Setu WhatsApp नंबर?

इस चैटबॉट सिस्टम के इस्तेमाल के लिए आप चाहें तो व्हाट्सएप नंबर 8046163838 पर सीधे चेस्ट एक्स-रे भेज सकते हैं और इसके महज आधे घंटे के भीतर ही यह बता देगा कि कोरोना संक्रमण है या नहीं?

जानकारी के मुताबिक़ इस सेवा की शुरुआत एक हफ़्ते पहले ही कर दी गई थी और अब तक इससे 500 से अधिक डॉक्टर्स जुड़ चुके हैं, और आगामी 15 दिनों में ये संख्या 10,000 तक होने का दावा भी किया जा रहा है।

31 मार्च, 2019 के आँकडों के अनुसार ग्रामीण भारत में कुल 5,335 कम्यूनिटी हेल्थ सेंटर्स हैं, और वहाँ मौजूद एक्स-रे मशीन और जानकार टेकनीशियंस के ज़रिए और XraySetu के सहयोग से एक्स-रे स्कैन को अधिक कारगर बनाया जा सकता है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)