rural-fintech-startup-jai-kisan-gets-rs-217-crores-as-funding

Jai Kisan Funding: मुंबई आधारित ग्रामीण फिनटेक स्टार्टअप Jai Kisan (जय किसान) ने अब अपने सीरीज़ ए फ़ंडिंग राउंड में इक्विटी और डेब्ट के ज़रिए कुल क़रीब ₹217 करोड़ ($30 मिलियन) का निवेश हासिल किया है। इस फ़ंडिंग राउंड का नेतृत्व Mirae Assets ने किया।

ग्रामीण भारतीयों, ख़ासकर किसानों को इस क्षेत्र में सशक्त बनाने का इरादा रखने वाली Jai Kisan ने इस राउंड में मौजूदा निवेशकों जैसे Blume Ventures, Arkam Ventures, NABVENTURES, Prophetic Ventures, Better के साथ ही साथ HNIs जैसे ग्लोबल इन्वेस्टर्स की भागीदारी भी दर्ज की।

इस नए निवेश के बाद Jai Kisan की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि फंडिंग का इस्तेमाल नए टैलेंट्स को कंपनी के साथ जोड़ने, इंजीनियरिंग व डेटा विज्ञान क्षमताओं को बढ़ाने, नए इलाक़ों में विस्तार करने और ऑन-बुक पोर्टफोलियो का निर्माण शुरू करने के लिए किया जाएगा।

निवेश दौर के एक और ख़ास पहलू की बात करें तो इसमें Veda Corporate Advisors ने Jai Kisan के फ़ंडिंग राउंड में विशेष वित्तीय सलाहकार की भूमिका निभाई।

अर्जुन अहलूवालिया (Arjun Ahluwalia) और एड्रियल मनिएगो (Adriel Maniego) द्वारा स्थापित, Jai Kisan ग्रामीण इलाक़ों के लोगों और व्यवसायों को ऑनलाइन और ऑफलाइन क्रेडिट, लेनदेन आदि डिजिटल वित्तीय सेवाओं की पेशकश करता है।

इस बीच Jai Kisan के सह-संस्थापक और सीईओ, अर्जुन अहलूवालिया ने कंपनी द्वारा साझा किए गए एक प्रेस बयान में कहा,

“महामारी के बावजूद, हमने मजबूती से गुणवत्ता सुनिश्चित करते हुए विकास दर्ज किया है। फ़िलहाल जहाँ अधिकतर वित्तीय संस्थान ग्राउंड ऑपरेशंस पर अपनी निर्भरता के कारण पीछे हटते नज़र आएँ हैं, वहीं Jai Kisan इस कठिन समय में अपने कर्जदारों के साथ मज़बूती से खड़ा है।”

कंपनी यह पॉइंट-ऑफ़-सेल/परचेज़ क्रेडिट के ज़रिए ग्रामीण व्यवसायों को सशक्त बनाने का काम कर रही है। यह ग्रामीण व्यवसायों को विस्तार करने और किसानों व अन्य ग्रामीण व्यक्तियों के लिए कम लागत वाले औपचारिक लोन देने देने में मदद करता है।

jai-kisan-services

असल में एक ऐसा देश जहां अधिकांशतः खेती को व्यवसाय नहीं माना जाता है, वहाँ ग्रामीण व्यवसायों के लिए औपचारिक लोन हासिल करने में दिक्कत आती है, और अब इसी कमी को Jai Kisan दूर करने का प्रयास कर रहा है।

आपको बता दें कंपनी ने अप्रैल 2020 में Bharat Khata (भारत खाता) लॉन्च किया, जिसके ज़रिए ग्रामीण व्यवसायों को कभी भी और कहीं से भी अपने बिज़नेस को मैनेज करने के लिए डिजिटल लेजर और स्मार्ट बिज़नेस सोल्यूशन की पेशकश की जाती है।

इस ऐप ने मार्च 2021 तक 25,000 से अधिक स्टोरफ्रंट पर क़रीब ₹2,790 करोड़ ($380 मिलियन) का वार्षिक जीटीवी रन-रेट दर्ज किया है।