elon-musks-takeover-of-twitter

Twitter India vs Delhi Police: इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि सत्तारूढ़ बीजेपी (BJP) और सोशल मीडिया दिग्गज़ ट्विटर (Twitter) के बीच संबंधों में खटास बढ़ती जा रही है। और ये मामला और भी तब बिगड़ गया जब दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल (Delhi Police Special Cell) की एक टीम ने ट्विटर द्वारा ‘मनिप्युलेटेड मीडिया‘ (Manipulated Media) के रूप में लेबल किए गए टूलकिट (Toolkit) संबंधित मामले को लेकर एनसीआर में स्थित ट्विटर इंडिया के ऑफ़िसों की कथित रूप से तलाशी शुरू की। साफ़ कर दें पुलिस के अनुसार वह सिर्फ़ मामले पर नोटिस देने के लिए ऑफ़िस में गई थी।

और अब ऐसी रिपोर्ट सामने आ रहीं हैं कि दिल्ली पुलिस द्वारा अमेरिकी माइक्रो-ब्लॉगिंग दिग्गज, ट्विटर (Twitter) के भारतीय ऑफ़िस में कथित छापेमारी के बाद Twitter हेडक्वार्टर में भी आक्रोश है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ कंपनी ने अपने ग्लोबल डिप्टी जनरल काउंसलर और वीपी (लीगल), जिम बेकर (Jim Baker) को स्थिति का जायज़ा लेने की ज़िम्मेदारी सौंप दी है। आपको बता दें जिम बेकर एक पूर्व एफबीआई (FBI) अधिकारी भी हैं।

Twitter India vs Delhi Police: भाजपा सरकार का ट्विटर के ख़िलाफ़ क़दम

असल में TOI की एक रिपोर्ट में सूत्रों के अनुसार कहा गया की इस मामले में Twitter द्वारा अमेरिकी सरकार से भी संपर्क किया जा सकता है क्योंकि दिल्ली में पुलिस की कार्रवाई के बाद अब टूलकिट ट्वीट्स को लेकर कंपनी और बीजेपी सरकार में सीधी खींचातान दिख रही है, जिसको कंपनी बेशक बदले की भावना से की गई कार्यवाई करार दे सकती है।

twitter-headquarter-on-delhi-police-raids-twitter-indias-offices-over-congress-toolkit

इस बीच सूत्रों के मुताबिक़ स्थिति इसलिए और भी ज़्यादा नहीं बिगड़ी क्योंकि दिलहल भारत में स्थानीय कार्यालय कोविड के कारण बंद कर दिए गए थे। लेकिन अब कंपनी के ग्लोबल हेडक्वार्टर ने इस मामले में भारत टीम के साथ लगातार सम्पर्क स्थापित किया हुआ है।

हालाँकि आपको साफ़ बता दें कि सरकार की इस कार्यवाई के बाद अब तक Twitter India की ओर से कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया गया है।

पहले भी जिम बेकर निकाल चुकें हैं समाधान

इस बीच माना ये जा रहा है कि अब जिम बेकर हाई इस मामले को लेकर अगले क़दम का नेतृत्व करेंगे। इस बात की अटकलें इसलिए भी लगाई जा रही हैं क्योंकि अभी कुछ ही समय पहले जब क़िसान आंदोलन के दौरान

सरकार और ट्विटर के बीच कुछ प्रोफ़ाइलों और ट्वीट्स को हटाने को लेकर विवाद शुरू हुआ था, और सरकार की ओर से कंपनी के अधिकारियों को गिरफ्तार करने और वित्तीय दंड लगाने तक की धमकी दी गई थी, तब ट्विटर की भारतीय टीम के प्रयासों के बहुत अधिक परिणाम नहीं मिलने के बाद, कंपनी जिम बेकर को ही सामने लाई थी।

तब उन्होंने ही भारत सरकार के साथ विचार-विमर्श करके इस मामले का निपटारा किया था और ट्विटर ने भारत सरकार द्वारा बताए गए क़रीब 97% अकाउंट्स को बंद कर दिया था।

इस बीच आपको बता दें कि कल शाम को रिपोर्ट्स के मुताबिक़ ट्विटर इंडिया के लाडो सराय, दिल्ली और गुरुग्राम स्थित ऑफ़िसों में कथित छापेमारी की गई थी।

वहीं दिल्ली पीआरओ चिन्मय बिस्वाल के अनुसार, दिल्ली पुलिस की टीम को एक नियमित प्रक्रिया के तहत ट्विटर को नोटिस देने ट्विटर इंडिया के कार्यालय में भेजा गया था। साथ ही यह भी पता लगाना था कि कौन वो सही व्यक्ति है जिसको नोटिस दी जाए, क्योंकि पुलिस के अनुसार ट्विटर इंडिया द्वारा दिए गए उत्तर फ़िलहाल अस्पष्ट थे।