cci-orders-probe-against-google-for-news-aggregation-case

Google I/O 2021: टेक दिग्गज़ गूगल (Google) ने हर साल होने वाली डेवलपर कॉन्फ़्रेंस की परंपरा को निभाते हुए इस साल भी Google I/O 2021 की मेज़बानी की। और हर बार की तरह इस साल की कांफ्रेंस में हुई घोषणाओं ने भी ख़ूब सुर्ख़ियाँ बटोरी, फिर चाहे बात एंड्राइड 12 बीटा (Android 12 Beta) वर्जन  हो या Photos के नए फ़ीचर्स, या WearOS को मिला नया लुक। पर सबसे दिलचस्प रहा ‘मटेरियल यू (Material You)’ डिज़ाइन।

मटेरियल यू डिज़ाइन लैंग्वेज (Material You Design Language)

आपको शायद याद होगा कि गूगल ने 2014 में मटेरियल डिज़ाइन लैंग्वेज को अपनाया था। और इसके बाद से ही एंड्राइड यूआई (Android UI) में कई अहम बदलाव आने शुरू हुए। लेकिन अब ऐसा लगता है कि कंपनी इस गेम को एक लेवल और ऊपर ले जाना चाहती है।

यही कारण है कि Google I/O 2021 कॉन्फ़्रेंस में कंपनी ने अपने हार्डवेयर डिवाइसों के लिए एक नई रंगीन और पर्सनलाइज्ड डिज़ाइन लैंग्वेज “मटेरियल यू (Material You)” का ऐलान किया।

अपने आधिकारिक ब्लॉग पोस्ट के अनुसार कंपनी ने इस डिज़ाइन को कुछ ऐसे तैयार किया है कि इसको हर लिहाज़ से पर्सनलाइज्ड टैग के साथ पेश किया जा सके।

आसान भाषा कहें तो इसमें आप रीयल-टाइम में यूआई पैलेट से लेकर कई चीज़ों को अपने अनुसार बदल सकेंगें। और इसके ज़रिए आप अपने मूड के आधार पर अपने एंड्रॉइड फोन के लुक और फील को बदल सकेंगें।

दिलचस्प ये है कि ये मटेरियल यू (Material You)” डिज़ाइन विभिन्न स्क्रीन साइज़ और प्रकारों के अनुसार ढल सकेगा। इसका मतलब ये है कि इसको न सिर्फ़ स्मार्टफोन पर बल्कि WearOS स्मार्टवॉच, स्मार्ट स्पीकर और आदि के साथ भी देखा जा सकेगा।

google-material-you-design-sample

इसके ज़रिए सिस्टम आपके फ़ोन की कलर प्रोफ़ाइल को फ़ोन के वॉलपेपर के आधार पर खुद चुन लेगा। साथ ही ये नोटिफ़िकेशन शेड, लॉक स्क्रीन, वॉल्यूम कंट्रोल, विजेट आदि पर भी अप्लाई होगा। इस फ़ीचर को Material You डिज़ाइन में मिलने वाले ‘कलर एक्सट्रेक्शन’ फ़ीचर के तौर पर जाना जाएगा।

एंड्राइड 12 बीटा (Android 12 Beta)

कंपनी ने Google I/O 2021 में अपना पहला एंड्राइड 12 बीटा (Android 12 Beta) भी जारी या दिया है। लेकिन आपको बता दें ये बीटा प्रोग्राम सभी उपयोगकर्ताओं के लिए नहीं है।

हाँ! इतना ज़रूर है कि आप बीटा प्रोग्राम के लिए रजिस्टर कर सकते हैं। आप इस Android 12 Beta प्रोग्राम की वेबसाइट पर जाकर इसके लिए चुनी गई डिवाइस (स्मार्टफ़ोन्स) की लिस्ट देख सकते हैं। और अगर आपका डिवाइस का नाम वहाँ है, तो उसके नाम के बीचे आ रहे ‘ऑप्ट इन’ बटन पर क्लिक करके आप अपना Beta Update प्राप्त कर सकते हैं।

इस समाय प्राइवेसी का मुद्दा काफ़ी गरमाया हुआ है, जिसको देखते हुए एंड्राइड 12 यूजर्स को अधिक कंट्रोल से लैस कर सकता है, जिसके बाद यूज़र्स जान सकेंगें कि कौन-से ऐप्स उनका डाटा और पर्सनल इन्फॉर्मेशन का इस्तेमाल कर रहे हैं।

इसके साथ ही एंड्राइड 12 में जब भी किसी ऐप द्वारा आपके फोन का कैमरा या माइक्रोफोन इस्तेमाल किया जाएगा तो फ़ोन आपको एक पॉप-अप शो करेगा।

इतना ही नहीं बल्कि एक कंट्रोल टॉगल फ़ीचर से भी आपको लैस किया जाएगा, जिसके ज़रिए आप अपनें फ़ोन में मौजूद माइक्रोफोन और कैमरा एक एक्सेस को पूरी तरह डिसेबल कर सकेंगें।

android-12-beta-look

 

गूगल क्रोम पर पासवर्ड होंगें और भी सुरक्षित

प्राइवेसी को गंभीरता से लेते हुए कंपनी ने अपने लोकप्रिय ब्राउज़िंग प्लेटफ़ॉर्म Google Chrome अब यूजर्स को Saved Password के लीक या कॉम्प्रोमाइज्ड होने की स्थिति पर पर उनको इसके बारे में आगाह करने का फ़ैसला किया है।

इतना ही नहीं बल्कि अगर आप चाहेंगें तो Google Chrome ही आपके लिए आपके पासवर्ड को बदल भी देगा।ये फीचर कुछ सपोर्टेड बेबसाइट पर मौजूद मिलेगा। आपको बता दें ये ऑटोमेटेड पासवर्ड चेंज फीचर धीरे-धीरे सभी एंड्राइड डिवाइसों पर मौजूद Chrome ऐप पर उपलब्ध करवाया जाएगा।

इसके साथ ही Google Maps और Photos को मिले अपडेट

अब आपको गूगल मैप्स पर जहाँ एक ओर सबसे जल्दी पहुँचाने वाला रास्ता शो किया जाएगा। वहीं इसके Live View फ़ीचर के ज़रिए नजदीकी दुकानों और रेस्टोरेंट आदि के बारे में आपको ऐप पर ही ओवरव्यू मिल सकेगा, जो उनको हाल में मिले रिव्यू पर आधारित होगा।

इसके साथ ही डीटेल्ड स्ट्रीट मैप्स फीचर भी दिया जा रहा है, जिससे अब आपको साइडवॉक, क्रॉसवॉक और रोड्स की शेप व चौड़ाई का पता भी चल सकेगा।

google-maps-receives-live-view-safe-and-eco-friendly-routes-and-more

वहीं Google Photos पर एक नया मैमोरी कलेक्शन फ़ीचर दिए जाने की बात भी कही गई है। इसके साथ ही यूजर्स को मैमोरी को रिनेम या रिमूव करके पर्सनलाइज करने की सुविधा भी दी जा रही है। और तो और इसमें अब लॉक्ड फोंल्डर भी दिया जा रहा है, जिसमें स्टोर तस्वीरें कहीं दिखाई नहीं देंगी और इन्हें पासकोड से प्रोटेक्ट किया जा सकेगा।

इन सब के बीच कंपनी ने एआई तकनीक क्षेत्र में भी अपने को साबित करते हुए LaMDA और MUM आदि जैसी ख़ूबियों का प्रदर्शन किया, जिसके तहत मशीन लर्निंग के ज़रिय समझने, जानकारी लेने और यहाँ तक की कन्वरसेशन प्रोसेस करने तक की खूबी मिलती हैं।