create-your-own-stickers-on-whatsapp-without-third-party-app
Credits: Wikimedia Commons

WhatsApp Claims Aarogya Setu, Zomato Collect More Data: इस साल की शुरुआत से ही हम सब लगातार WhatsApp की नई विवादित प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर कोई न कोई ख़बर सुन रहे हैं। और ये मामला रोज़ नए और दिलचस्प मोड़ लेता नज़र आता है।

एक तरह मामला जहाँ दिल्ली हाईकोर्ट में है, वहीं दूसरी ओर WhatsApp लगातार इसको लेकर यूज़र्स के लिए नई नई घोषणाएँ करता नज़र आ रहा है। लेकिन अब तमाम विवादों के बीच WhatsApp ने दिल्ली हाईकोर्ट में एक नया हलफनामा दायर करके खलबली मचा दी है।

WhatsApp ने उठाए Aarogya Setu, Zomato आदि पर सवाल?

असल में Inc42 की द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट में ये दावा किया गया है कि WhatsApp ने अपने हालिया हलफनामे में एक बेहद गंभीर मुद्दे की ओर ध्यान खींचना चाहा है और अदालत से ये कहा है कि जितना डेटा फ़िलहाल कंपनी की मैसेजिंग ऐप कलेक्ट करती है, कई मामलों में उससे कहीं ज़्यादा डेटा Aarogya Setu, Zomato, Ola, BigBasket आदि जैसी ऐप्स के द्वारा कलेक्ट किया जाता है।

aarogya-setu-whatsapp-data

इसके साथ ही हलफनामे में WhatsApp में ये साफ़ कहा है कि अपनी नई प्राइवेसी पॉलिसी के तहत WhatsApp यूज़र्स का उतना ही डेटा कलेक्ट करेगा जितना फ़िलहाल Zomato, Aarogya Setu आदि जैसे ऐप्स कर रहे हैं।

रिपोर्ट के अनुसार WhatsApp ने दिल्ली हाईकोर्ट में दायर अपने इस हलफ़नामे में कहा;

“कई इंटरनेट एप्लिकेशन और वेबसाइटों की प्राइवेसी पॉलिसी को रिव्यू करने पर इस बात की पुष्टि की जा सकती है कि अधिकतर मामलों में उनके द्वारा लोगों जितनी जानकारी इक्कठा करने की बात कही जाती है, क़रीब वही चीज़ WhatsApp की 2021 की अपडेट में भी कही जा रही है। ग़ौर करने वाली बात ये है कि कई मौजूदा ऐप्स तो हमारी नई अपडेट से भी अधिक यूज़र डेटा कलेक्ट करने की शर्त रखते हैं।”

ज़ाहिर है इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि WhatsApp भले एक विवादित प्राइवेसी पॉलिसी को लागू करने की कोशिशें कर रहा है, लेकिन मौजूदा समय में कई ऐप्स आदि भी कहीं न कहीं यूज़र डेटा के संबंध में ऐसी ही पॉलिसी के साथ नज़र नहीं आती?

यहाँ तक कि सरकार द्वारा पेश किए गए कोविड-19 कांटैक्ट ट्रेसिंग ऐप Aarogya Setu को लेकर भी कई तरह के विवाद जन्म लेते रहें हैं।

ALSO READ: क्या है Aarogya Setu को लेकर विवाद? जानें यहाँ!

इसके पहले आपको बता दें WhatsApp पहले अपनी इस विवादित प्राइवेसी पॉलिसी को 8 फ़रवरी को लागू करना चाहता था, जिसको बाद एमिन 15 मई के लिए बढ़ा दिया गया था, जो डेडलाइन भी हाल ही में कंपनी के द्वारा ख़त्म कर दी गई है।

लेकिन रुकिए, आपके लिए मुश्किलें कम नहीं हुईं हैं, असल में WhatsApp के FAQs के ज़रिए कुछ चीज़ें सामने आई हैं कि अगर आपने नई पॉलिसी को ऐक्सेप्ट नहीं किया तो आपके अकाउंट के साथ क्या क्या हो सकता है? इसको आप यहाँ पढ़ सकते हैं।