anand-mahindra-rolls-out-oxygen-on-wheels
Credit: Wikimedia Commons

भारत भर में कोविड-19 की दूसरी लहर के चलते काफ़ी कठिन हालात बने हुए हैं और इस समय सबसे अधिक प्रभावित राज्यों में से एक है महाराष्ट्र। और अब इसी को देखते हुए Mahindra Group के अध्यक्ष, आनंद महिंद्रा (Anand Mahindra) ने अब राज्य में “ऑक्सीजन ऑन व्हील्स (Oxygen on Wheels)” नामक पहल की शुरुआत की है।

हम सब जानते हैं कि इस महामारी के दौरान मरीज़ों को सबसे अधिक दिक्कत ऑक्सीजन की कमी के चलते हो रही है और राज्य के साथ ही साथ पूरा देश इस वक़्त ऑक्सीजन की कमी का सामना कर रहा है।

और अब ऐसे में महाराष्ट्र में ऑक्सीजन की कमी की दिक्कत को थोड़ा कम करने के लिए आनंद महिंद्रा ने शनिवार इस ऑक्सीजन ऑन व्हील्स (Oxygen on Wheels) की शुरुआत की है।

anand-mahindra-rolls-out-oxygen-on-wheels
Credits: (Twitter/@Anand Mahindra)

इस पहल के तहत महिंद्रा द्वारा ऑक्सीजन प्लांट आदि से गैस को अस्पतालों और घरों में पहुँचाने की सहूलियत दी जाएगी, जो इस वक़्त एक बड़ी चुनौती बनी हुई है।

इस Oxygen on Wheels पहल के बारे में बताते हुए आनंद महिंद्रा ने अपने ट्वीट में कहा;

“आज ऑक्सीजन मृत्यु दर को कम करने में अहम भूमिका निभा सकता है। समस्या ऑक्सीजन के उत्पादन की नहीं है, बल्कि प्लांट से उस ऑक्सीजन को अस्पतालों और घरों तक पहुँचाने की है।”

“और अब हम Oxygen on Wheels नामक इस पहल के ज़रिए महिंद्रा लॉजिस्टिक्स की मदद से इस दिक्कत को दूर करने की कोशिश करेंगें।”

Mahindra की Oxygen on Wheel पहल

उन्होंने कहा कि “ऑक्सीजन ऑन व्हील्स (Oxygen on Wheel)” अस्पतालों और घरों को सीधे ऑक्सीजन उत्पादकों से जोड़ने के लिए स्थानीय स्तर पर ट्रकों का उपयोग करेगा।

इस परियोजना के संचालन के लिए एक ऑपरेशन कंट्रोल सेंटर बना लिया गया है और साथ ही साथ कंपनी ने स्थानीय रिफिलिंग संयंत्र से लेकर स्टोरेज स्थान आदि को भी चिन्हित कर लिया है और अब इस नई सुविधा के डायरेक्ट-टू-कंज़्यूमर मॉडल पर काम करने की बात कही जा रही है।

इस बीच आनंद महिंद्रा ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को ट्विटर पर टैग करते हुए कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री से इसके लिए अपनी प्रतिबद्धता जताई है और सिर्फ़ 48 घंटों में महिंद्रा लॉजिस्टिक टीम पुणे और चाकन में 20 बोलेरो के साथ Oxygen on Wheel की शुरुआत कर देगी।

इसके साथ ही यह भी बताया गया है कि 61 जंबो सिलिंडर पहले ही 13 अस्पतालों में डिलीवर किए जा चुके हैं, जिसके लिए आनंद ने अपनी टीम का आभार भी व्यक्त किया।