zomato-new-parent-firm-eternal-with-multiple-ceo-model

लोकप्रिय फूडटेक प्लेटफॉर्म Zomato ने कोविड-19 इमरजेंसी स्थितियों के लिए “प्राथमिकता डिलीवरी (Priority Delivery)” सर्विस शुरू की है। इसकी जानकारी ख़ुद कंपनी के सीईओ दीपिंदर गोयल ने ट्विटर के ज़रिए दी।

ग़ौर करने वाली बात यह है कि यह सर्विस ऐसे वक़्त में पेश की गई है जब भारत में रोज़ाना कोविड-19 संक्रमण के मामलों और मौतों के रिकॉर्ड केस दर्ज किए जा रहे हैं।

देश में महामारी की इस दूसरी लहर के बढ़ने से भारत के कई राजयों व शहरों में फिर से लॉकडाउन जैसी स्थिति पैदा हो गई है और रेस्टोरेंट से लेकर अन्य व्यवसाय ख़ासकर तौर पर फिर से प्रभवित हो रहें हैं।

इस बीच Zomato ने सीईओ ने इस Priority Delivery सर्विस को पेश करते हुए कहा;

“Zomato में हम अपनी Priority Delivery सर्विस के तहत आपात कोविड-19 स्थिति हम तेज राइडर असाइनमेंट और प्रश्नों को जवाब देने के लिए एक अलग कस्टमर सपोर्ट व्यवस्था के ज़रिए ग्राहकों की मदद का प्रयास करेंगे।”

“हमारे साथ ही हमारे हजारों रेस्टोरेंट पार्टनर्स ने भी अपनी रसोई में ऐसे आपात ऑर्डर को प्राथमिकता देने का वादा किया है।”

कैसे करें Zomato की इस Priority Delivery सर्विस का इस्तेमाल?

इस विकल्प का इस्तेमाल करना बेहद आसान है, आपको बस Zomato ऐप पर चेक-आउट के दौरान कोविड-19 इमरजेंसी के विकल्प को टिक करना होगा, जिससे प्लेटफ़ॉर्म और रेस्टोरेंट दोनों को पता लग जाएगा कि ये ऑर्डर प्राथमिक रूप से डिलीवर करने की ज़रूरत है, और वह ऐसा ही करेंगें।

इसके साथ ही Zomato के सीईओ के अनुसार कोविड-19 इमरजेंसी के रूप में चिह्नित किया गया ऑर्डर डिफ़ॉल्ट रूप से संपर्क रहित (कांटैक्ट-लेस) रूप से डिलीवर किया जाएगा। इसके साथ ही इसमें सबसे तेज राइडर असाइनमेंट और अलग से कस्टमर सपोर्ट मिल सकेंगा।

इस बीच ऐसा लगता है कि Zomato यही नहीं रुकना चाहता और इसलिए गोयल ने ऐसे भी संकेत दिए हैं कि कोविड-19 इमरजेंसी की स्थितियों में कंपनी और किस प्रकार से लोगों की मदद कर सकती है, कंपनी इसको लेकर और भी काम कर रही है।

लेकिन ना हो दुरुपयोग 

लेकिन ज़ाहिर है अन्य कई यूज़र्स की तरह आपको भी यह डर होगा कि कहीं इस सुविधा को कई लोगों द्वारा बेवजह ना इस्तेमाल किया जाए और जिनको वाक़ई इसकी ज़रूरत है ऐसे में वह इससे वंचित ना रह जाए?

zomato-priority-delivery-feature-for-covid-19-emergencies

इस संभावित समस्या के लिए कम्पनी ने वैसे तो कोई सिस्टम नहीं बनाया है, लेकिन अभी के लिए, चेक-आउट के समय लोगों को ये नोटिफ़िकेशन ज़रूर दिया जा रहा है कि वह इस सुविधा को किसी एम्बुलेंस सेवा के रूप एमिन देखें और इसका दुरुपयोग न करें।

2017 में भी पेश की गई थी ऐसी ही सुविधा?

आपको बता दें कुछ ही महीनों में IPO दायर कर सकने वाली Zomato ने 2017 में भी ऐसी ही एक सुविधा पेश की थी, जो ग्राहकों को इमरजेंसी की स्थिति में बिना किसी देरी के भोजन डिलीवर करने की सुविधा से देती थी। लेकिन बाद में एक अपडेट में इसे बंद कर दिया गया था।

1 comment

Comments are closed.