amazon-india-copying-products-and-promoting-its-version-on-search
Credits: Wikimedia Commons

Amazon Web Services (AWS) ने भारत में छोटे और मध्यम आकार के व्यवसायों के लिए कम लागत वाला सॉफ्टवेयर सूट, Amazon Digital Suite लॉन्च किया है। इसकी मदद से छोटे व्यवसायों को अपने काम को डिजिटल ले जाने और व्यवसाय को ऑनलाइन लाने में मदद मिले सकेगी।

अपने नाम के अनुसार Amazon Digital Suite अकाउंटिंग, कस्टमर केयर और ह्यूमन रिसोर्स जैसे जैसे क्षेत्रों में सात घरेलू AWS भागीदारों के साथ व्यावसायिक सॉफ़्टवेयर के विकल्प प्रदान करेगा।

इन विकल्पों में निम्नलिखित भागीदारों के साथ ये तमाम सुविधाएँ शामिल हैं;

  • Razorpay: पेमेंट और क्रेडिट सुविधा
  • Freshworks: कस्टमर सपोर्ट और CRM सोल्यूशन
  • ClearTax: टैक्स कम्प्लाइयन्स और इनवायसिंग सोल्यूशन
  • Zoho: अकाउंटिंग और प्रॉडक्टिविटी सोल्यूशन
  • OkCredit: डिजिटल लेजर और ऑनलाइन कैटलॉगिंग सोल्यूशन
  • Vinculum: ई-कॉमर्स और रिटेल ऑर्डर मैनेजमेंट सोल्यूशन
  • greytHR: ह्यूमन रिसोर्स एंड पेरोल मैनेजमेंट सोल्यूशन

ये तमाम सुविधाएँ Amazon India मार्केटप्लेस पर उपभोक्ताओं और व्यवसायों दोनों के लिए उपलब्ध होंगे। इन प्रोडक्ट की क़ीमतें ₹20 से शुरू होंगी और यह रिटेल कीमतों पर 75% तक की छूट उपलब्ध होगी।

aws-launches-amazon-digital-suite
Credits: Wikimedia Commons

कंपनी ने एक बयान में कहा अपने Amazon Business अकाउंट का उपयोग करके प्रोडक्ट खरीदने वाले ग्राहकों को कुछ विशेष छूट के साथ इनपुट टैक्स क्रेडिट के लिए GST चालान दिया जाएगा।

दिलचस्प ये है कि Amazon Digital Suite तब पेश किया गया है जब एक दिन पहले ही Amazon India ने अपने वार्षिक कार्यक्रम ‘Smbhav’ के दौरान SMBs के डिजिटलीकरण, कृषि और स्वास्थ्य सेवा में तकनीकी इनोवेशन आधारित स्टार्टअप्स में निवेश के लिए लगभग ₹1850 करोड़ के Amazon Smbhav Venture Fund का ऐलान किया है।

इसके साथ ही Amazon India ने अपने ‘Local Shops on Amazon’ प्रोग्राम की भी घोषणा की, जिसके तहत कंपनी 2025 तक Amazon India मार्केटप्लेस पर 10 लाख ऑफलाइन रिटेलर्स और आस-पड़ोस में खुलने वाले छोटे स्टोर्स को ऑनलाइन लाने का काम करेगी।

साथ ही कंपनी ने ‘Spotlight North East’ प्रोग्राम भी शुरू किया है, जिसके ज़रिए ये भारत के नोर्थ ईस्ट क्षेत्र के 8 राजयों से क़रीब 50,000 कारीगरों, बुनकरों और ऑफ़लाइन छोटे व्यवसाय को 2025 तक ऑनलाइन लाने का काम करेगा।