apple-patents-keyboard-free-macbook

टेक दिग्गज Apple ने एक नया पेटेंट रजिस्टर किया है, जिसके अनुसार अब कंपनी लैपटॉप से ​​कीबोर्ड (Keyboard) को हटाने जा रही है।

जी हाँ! सही पढ़ा आपने, असल में मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ 30 मार्च को दायर किए गए नए पेटेंट में Apple ने “इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसों के लिए कॉन्फ़िगर करने योग्य फ़ोर्स-सेन्सिटिव इनपुट स्ट्रक्चर” का ज़िक्र किया है।

Apple लैपटॉप से हट जाएगा Keyboard

आसान भाषा में कहें तो ये नई टेक्नोलॉजी Apple लैपटॉप्स में पारंपरिक कीबोर्ड (Keyboard) की जगह एक छोटे डिस्प्ले के इस्तेमाल को बढ़ावा देगी।

और क्योंकि यह कीबोर्ड (Keyboard) पूर्ण रूप से तो नहीं, लेकिन एक डिस्प्ले जैसा होगा तो यूज़र्स अपनी सहूलियत के हिसाब से Keys आदि की जगह व अन्य बदलाव कर सकेंगें। मतलब ये यूज़र्स को मौजूदा QWERTY कॉन्फ़िगरेशन वाले कीबोर्ड का ही इस्तेमाल करने के लिए बाध्य नहीं होना पड़ेगा।

apple-patents-keyboard-free-macbook

वैसे ग़ौर किया जाए तो पहली नज़र में ऐसा ही लगता है कि Apple अपने मौजूदा Macbooks में उपलब्ध टच बार तकनीक का ही अब Keyboard के रूप में भी विस्तार करना चाहती है।

मौजूदा टच बार असल में OLED डिस्प्ले की पतली पट्टी होती है, जो Apple Macbook Pro Keyboard के ऊपर होती है।

ऐसा हो सकता है Apple के नए Keyboard का स्वरूप

लेकिन इस नए पेटेंट के अनुसार इस नए वर्चूअल कीबोर्ड में भी Apple कीबोर्ड की Keys के लिए एक निश्चित स्थान तय कर सकता है, लेकिन आप Key के नम्बर आदि को सहूलियत के अनुसार बदल सकेंगें।

आंदाज़ा ये लगाया जा रहा है कि हो सकता है कि Apple आपको सीधे सीधे Keyboard डिस्प्ले ना दें, बल्कि मौजूदा स्पर्श प्रतिक्रिया की सुविधा से लैस रखते हुए हर एक Key को मल्टीफ़ंक्शन बनाने की कोशिश करे।

पेंटेंट के अनुसार हर Key का मूवबल Key मेम्बर एक फाइबर ऑप्टिक प्लेट से बनाया जाए। फाइबर ऑप्टिक प्लेट सतह के रूप में बनाया जा सकता है। इसकी पहली सतह मुख्य डिस्प्ले के समीप हो सकती है और Key डिस्प्ले से Key लेबल ईमेज को प्राप्त कर सकती है।

वहीं इसकी दूसरी सतह एक यूज़र के बाहरी स्पर्श के लिहाज़ से तैयार की जा सकती है और यूज़र की उंगलियों से Key Press इनपुट प्राप्त कर सकती है।

लेकिन आपको बता दें ये अभी तक साफ़ नहीं है कि क्या ऐपल अपने Macbook लाइनअप में इस नई तकनीक का इस्तेमाल करेगा या नहीं?

साथ ही इस तकनीक को स्पष्ट रूप से वास्तविकता में सोच पाना फ़िलहाल मुश्किल है, लेकिन शुरुआती जानकारी से इतना तो साफ़ है कि जब भी इस तकनीक को असलियत में इस्तेमाल किया जाएगा तो वह इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसों के लिए किसी नए युग से कम नहीं होगा।

दिलचस्प बात यह है कि एक तरीके का वर्चूअल कीबोर्ड Apple के लैपटॉप में Keyboard पर ही Emojis आदि को भी जगह देता नज़र आ सकता है।