up-budget-2021-22-key-points

उत्तर प्रदेश में सीएम योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वलय सरकार ने आज सुबह 11 बजे विधानसभा में सरकार का पांचवां बजट, UP Budget 2021-22 पेश किया। पिछले साल कोरोना महामारी के व्यापाक प्रभाव के बाद ये प्रदेश का पहला बजट रहा, इसलिए इसको लेकर सभी लोगों की निगाहें गड़ी हुईं थीं।

ये बजट कई मायनों में ख़ास भी रहा। सबसे पहले तो ये उत्तर प्रदेश के इतिहास में पहला ऐसा बजट था, जिसको डिजिटल माध्यम से पेश किया गया। इसके पहले हम देख चुके हैं कि लोकसभा में भी इस बार भारत के बजट पेपरलेस मोड में ही टैबलेट के माध्यम से पेश किया गया था।

उत्तर प्रदेश के वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने सोमवार को राज्य विधानसभा में वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए ₹5,50,270 करोड़ का बजट पेश किया। आपको बता दें वित्त वर्ष 2017-18 में यूपी की मौजूदा योगी सरकार अपना पहला बजट ₹3.84 लाख करोड़, 2018-19 में ₹4.28 लाख करोड़, 2019-20 में ₹4.79 लाख करोड़ और 2020-21 में ₹5.12 लाख करोड़ रुपये का बजट पेश किया था।

आइए देखते हैं उत्तर प्रदेश के बजट 2021-22 में कौन-कौन सी अहम घोषणाएँ की गईं हैं?

UP Budget 2021-22 – Key Highlights:

* इस बजट में हाउसिंग योजना के लिए ₹10,029 करोड़, वहीं Amrit Yojna के लिए ₹2,200 करोड़, स्मार्ट सिटी परियोजना के लिए ₹2,000 करोड़, Mukhya Mantri Samagra Sampada Vikas Yojna के लिए ₹1,000 करोड़, PM Awas Gramin योजना के लिए ₹7,000 करोड़, PM Sadak Yojna के लिए ₹5,000 करोड़ आवंटित किए गए।

* वहीं किसानों की पेंशन के लिए ₹3,100 करोड़ आवंटित किए गए।

* इस बजट में वित्तीय संकट का सामना कर रहे लोक कलाकारों को ₹2,000 रुपये की मासिक सहायता देने की भी बात कही गई।

* शिक्षा के क्षेत्र में (हर डिवीज़न में एक विश्वविद्यालय, 26 जिलों में मॉडल कॉलेजों के लिए ₹200 करोड़) का आवंटन हुआ।

* वाराणसी और गोरखपुर में मेट्रो रेल परियोजनाओं के लिए ₹100 करोड़ दिए गए।

* लखनऊ में Rashtriya Prerna Sthal के लिए ₹50 करोड़ का आवंटन

* अयोध्या के विकास के लिए ₹140 करोड़ का आवंटन

* अयोध्या में हवाई अड्डे के लिए $101 करोड़, वहीं ज़ेवरत, चित्रकूट और सोनभद्र के हवाई अड्डों के लिए ₹2,000 करोड़ दिए गए हैं।

* Mukhya Mantri Kanya Sumangal Yojana के तहत सरकार ने छात्राओं को टैबलेट देने के लिए ₹1,200 करोड़ आवंटित किए।

* गोरखपुर एक्सप्रेसवे के लिए ₹750 करोड़, पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के लिए ₹1,107 करोड़, बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे के लिए ₹1,492 करोड़ दिए गए।

* रियायती दरों पर किसानों को लोन के लिए ₹400 करोड़ दिए गए।

* सिंचाई के लिए ₹700 करोड़ आवंटित हुए।

* Krishi Durghatna Yojana के लिए ₹600 करोड़ आवंटित किए गए।

* Atma Nirbhar Krishik Samanvit Vikas Yojana के लिए ₹100 करोड़ दिए गए।

* कोविड टीकाकरण के लिए ₹50 करोड़ आवंटित किए गए।

इस बीच राजनीतिक विश्लेषकों का मानना ​​है कि बजट में राज्य की अर्थव्यवस्था को 1 ट्रिलियन डॉलर करने के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के वादे को भी ध्यान में रखकर ये बजट पेश किया गया है।