farmers-protests-reliance-jio-loses-subscribers-in-haryana-and-punjab

क़िसान आंदोलन के चलते देश भर में किसानों का ग़ुस्सा जहाँ एक ओर सरकार के तीनों कृषि बिलों पर है, वहीं कुछ क़िसानों ने मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाली Reliance Industries की सेवाओं, ख़ासकर Reliance Jio का भी बराबर विरोध शुरू कर रखा है। और अब इसका असर भी दिखने लगा है।

असल में भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (TRAI) द्वारा गुरुवार को जारी किए गए डेटा के अनुसार, तीनों विवादास्पद कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसानों के विरोध के बीच टेलीकॉम कंपनी Reliance Jio ने दिसंबर 2020 में पंजाब और हरियाणा में लगभग 20 लाख ग्राहकों को खो दिया है।

Reliance Jio ने पंजाब में खोए क़रीब 15 लाख ग्राहक

दरसल पंजाब में Reliance Jio के ग्राहक नवंबर 2020 तक 1.40 करोड़ थे, जो दिसंबर 2020 में घटकर 1.25 करोड़ हो गए हैं।

इस राज्य में नवंबर 2020 में Vodafone Idea के 86.42 लाख से अधिक ग्राहक थे जो दिसंबर 2020 में बढ़कर 87.11 लाख हो गए, वहीं Airtel के पास नवंबर 2020 में 1.05 करोड़ से अधिक ग्राहक थे, जो थोड़े बढ़कर 1.06 करोड़ हो गए।

क़िसान Reliance Jio

हरियाणा में Jio ने खोए क़रीब 5 लाख ग्राहक

इसी बीच हरियाणा में भी Jio का ग्राहक आधार नवंबर 2020 में 94.48 लाख के मुक़ाबले दिसंबर 2020 में घटकर 89.07 लाख हो गया था।

वहीं Jio के प्रति इस ग़ुस्से का फ़ायदा हरियाणा में Airtel को ज़्यादा मिलता दिख रहा है। असल में Airtel के पास नवंबर में हरियाणा में 49.56 लाख से अधिक ग्राहक थे, जो दिसंबर में बढ़कर 50.79 लाख ग्राहक हो गए। वहीं Vodafone Idea के पास नवंबर 2020 तक 80.23 लाख से अधिक ग्राहक थे, जो थोड़ी बढ़त के साथ 80.42 लाख हो गए हैं।

वहीं इस सरकार समर्थित टेलीकॉम कंपनी BSNL ने भी दिसंबर 2020 में पंजाब और हरियाणा के ग्राहक आधार में बढ़त दर्ज की है।

किसान आंदोलन में Jio पर उतरा ग़ुस्सा

असल में पिछले साल दिसंबर में कई रिपोर्टें भी सामने आईं थीं कि पंजाब में किसानों द्वारा कथित रूप से Jio के लगभग 1,500 टॉवरों को नुक़सान पहुँचाया गया है। तब राज्य के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने 28 दिसंबर को मोबाइल टॉवरों को नुक़सान पहुँचानें के खिलाड़ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए थे।

लेकिन इसी बीच Reliance Jio का शुद्ध लाभ बढ़ा

लेकिन दिलचस्प ये है कि इस साल जनवरी में Reliance Jio ने दिसंबर में समाप्त तिमाही में शुद्ध लाभ के पैमाने पर तिमाही-दर-तिमाही आधार के अनुसार 15.5 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की थी, जो क़रीब ₹3,489 करोड़ थी। वहीं जुलाई-सितंबर तिमाही के दौरान कंपनी का शुद्ध लाभ ₹3,020 करोड़ रहा था।