amazon-foxconn-to-start-device-manufacturing-in-india

अमेरिका आधारित ई-कॉमर्स दिग्गज Amazon ने दिग्गज़ मैन्युफ़ैक्चरिंग फ़र्म Foxconn के साथ आज एक बड़ा ऐलान किया है। असल में कंपनी ने कहा है कि अब वह भारत में अपने Fire TV Stick डिवाइस ने निर्माण शूरू करेगी।

इसके लिए Amazon ने Foxconn की सहायक कंपनी Cloud Network Technology के साथ करार करने का भी ऐलान किया है, जिसके बाद इस साल के अंत तक में चेन्नई में उत्पादन शूरू कर दिया जाएगा।

असल में कंपनी की मानें तो ये क़दम भारत में ग्राहकों की मांगों को पूरा करने के मक़सद से उठाया जा रहा है। एक ब्लॉग के ज़रिए इसका ऐलान करते हुए Amazon ने कहा कंपनी लगातार अन्य बाजारों या शहरों में विस्तार के अवसर का मूल्यांकन करती रहेगी।

इस बीच भारत के सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इस ऐलान पर टिप्पणी करते हुए कहा;

“भारत इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी उत्पाद उद्योग में वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला में एक प्रमुख खिलाड़ी बनने की ओर अग्रसर है। हमारी सरकार के प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव (PLI) स्कीम को शुरू करने के फैसले को विश्व स्तर पर जबरदस्त समर्थन मिल रहा है।”

“और अब इसी दिशा में बढ़ाए जा रहे Amazon के क़दम का हम स्वागत करते हैं। यह आत्मनिर्भर भारत के रूप में हमारे मिशन को डिजिटल रूप से भी सशक्त बनाएगा।”

Amazon और Foxconn को भी मिलेगा ये फ़ायदा

इस क़दम के साथ ही असल में चीन से आयात संबंधित निर्भरता को भी कम करने की कोशिश की जा रही है। इस मक़सद को हासिल करने के लिए भारत सरकार ने पिछले साल नवंबर में ही क़रीब 10 क्षेत्रों के लिए PLI स्कीम को मंजूरी दी थी, जिससे तहत उत्पादन और बिक्री के लिए निर्माताओं को सरकार की ओर से प्रोत्साहन प्रदान करने की बात कही गई थी।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने बजट 2021 के भाषण में कहा था कि सरकार ने वित्त वर्ष 2021-22 से शुरू होने वाले पाँच वर्षों में लगभग ₹9.9 ट्रिलियन का भुगतान किया है।

इसको लेकर कंपनी के ग्लोबल एसवीपी और Amazon India के प्रमुख, अमित अग्रवाल ने कहा;

“Amazon भारत सरकार के साथ मिलकर एक आत्मनिर्भर भारत के निर्माण की सोच को आगे बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है।”

“हमने 10 मिलियन छोटे और मध्यम व्यवसायों को डिजिटल बनाने के लिए $1 बिलियन के निवेश का वादा किया है, जिससे भारतीय व्यवसायों को दुनिया भर में अपने उत्पादों को बेचने में मदद मिलेगी। और इसको सकल रूप से देखे टों ये क़रीब $10 बिलियन का निर्यात व्यापार होता है और 2025 तक करी 1 मिलियन नौकरियों के अवसर भी पैदा करेगा।”