isro-mapmyindia-partner-up-to-compete-with-google-maps

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) और MapmyIndia ने अब साथ आकर पर तरह से स्वदेशी, मैप पोर्टल और भू-स्थानिक (Geospatial) सेवाओं की पेशकश करने का मन बनाया है। साफ़ तौर पर ये Google Map और Google Earth जैसी सेवाओं को टक्कर देता नज़र आएगा।

असल में इस नई साझेदारी के तहत MapmyIndia अपनी डिजिटल मैप और तकनीकी सेवा के लिए ISRO के उपग्रह और पृथ्वी संबंधी डेटा का इस्तेमाल करेगा।

एक आधिकारिक बयान में MapmyIndia ने कहा कि मैप और भू-स्थानिक सेवाओं के लिए एक भारतीय विकल्प का होना कई पैमानों पर अहम है। कंपनी का दावा है कि इसकी सेवा ये सुनिश्चित करेगी कि नक्शे भारत सरकार के अनुसार भारत की सीमाओं को दर्शाते हुए देश की सच्ची संप्रभुता को दुनिया के सामने पेश किया जा सके।

आपको बता दें MapmyIndia के मैप में 7.5 लाख भारतीय गाँव, 7500 से अधिक शहर, 63 लाख किलोमीटर सड़क नेटवर्क आदि पहले से मौजूद हैं। कंपनी का दावा है कि इसके पास देश का सबसे विस्तृत डिजिटल मैप डेटाबेस है, जो पिछले 25 सालों में पूरी तरह से स्वदेशी रूप से बनाया गया है।

असल में ISRO के पास भारत भर के सभी इलाक़ों के लिए पर्याप्त उपग्रह व पृथ्वी अवलोकन का एक कैटलॉग है, जो देश के उपग्रहों की मदद से ही तैयार किया गया है। असल में ISRO हमेशा से ही भारतीय सैटेलाइटों को लेकर अधिक संवेदनशील रहा है, खासकर संकटों और आपदा के समय।

वहीं MaymyIndia का दावा है कि उपयोगकर्ता की गोपनीयता के लिए बेहतर सुरक्षा प्रदान करने के मक़सद के चलते उसने किसी तरह का विज्ञापन व्यवसाय मॉडल नहीं अपनाया है।

उसका व्यवसाय मॉडल डिजिटल मैप डेटा प्रोडक्ट, नेविगेशन सोल्यूशन, मैपिंग API, ऑटोमोटिव तकनीकी प्लेटफार्मों, भू-स्थानिक विश्लेषण और GIS सोल्यूशन, IoT और टेलीमैटिक्स उत्पादों, बिग डेटा और AI सोल्यूशन, इंडस्ट्री सॉफ्टवेयर (SaaS) आदि पर आधारित है।

बहरहाल! MapmyIndia के मैप एप्लिकेशन और सेवाएं अब ISRO की उपग्रह और पृथ्वी अवलोकन डेटा के कैटलॉग के साथ एकीकृत होते नज़र आएँगें। उपयोगकर्ता मौसम, प्रदूषण, कृषि उत्पादन, भूमि उपयोग परिवर्तन, बाढ़ और भूस्खलन आपदाओं आदि के बारे में जानकारी पाने के साथ ही साथ मैप डेटा भी देख सकेंगें।