ऐसे समय में जब लोकप्रिय सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म WhatsApp को अपनी प्राइवेसी पॉलिसी के चलते चौतरफ़ा मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में उपयोगकर्ताओं की प्राइवेसी को देखते हुए WhatsApp ने अपने वेब व डेस्कटॉप वर्जन में अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करने के लिए एक अपडेट का ऐलान किया है।

दरसल अब कंपनी अपने इस वर्जन में उपयोगकर्ताओं को बायोमेट्रिक्स का उपयोग कर अपने अकाउंट को वेब या डेस्कटॉप से ​​जोड़ने से पहले उनकी पहचान को सत्यापित करने की सुविधा दी है।

एक प्रेस विज्ञप्ति में कंपनी की ओर से कहा गया;

“इस साल हम Mac और Windows के लिए अपनी वेब सुविधा के लिए हमारे ऐप्स में कुछ नई सुविधाएँ जोड़ी जा रहीं हैं। दरसल हम चाहते हैं कि WhatsApp वेब और डेस्कटॉप हमारे मोबाइल एप्स की तरह ही मजबूत हों, ताकि लोग निजी सुरक्षा पुख़्ता की जा सके और वो वेब वर्जन में भी सुरक्षित महसूस करें।”

दुनिया भर में लाखों लोग अपने निजी कंप्यूटर या लैपटॉप पर WhatsApp का उपयोग करते हैं। और इसलिए ये सुविधा अहम हो जाती है।

दरसल अब WhastApp वेब के लिए अपनी पहचान प्रमाणित करने के लिए उपयोगकर्ता के चेहरे या फिंगरप्रिंट स्कैन की आवश्यकता होगी। iPhone उपयोगकर्ताओं इसके लिए फेस आईडी का उपयोग भी करके उनके अकाउंट का सत्यापन कर सकते हैं। और इसके बाद ही उपयोगकर्ताओं को अपने उपकरणों को लिंक करने के लिए फोन से एक क्यूआर कोड को स्कैन करना होगा, जैसा पहले होता था।

इसके साथ ही उपयोगकर्ताओं की बायोमेट्रिक जानकारी को लेकर भी कंपनी ने आश्वासन दिया है। कंपनी ने कहा;

“चेहरा और फिंगरप्रिंट संबंधित प्रमाणीकरण आपके डिवाइस पर गोपनीयता को बरक़रार रखते हुए ही डिजाइन किया गया है, और कंपनी आपके डिवाइस के ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा ली गई बायोमेट्रिक जानकारी स्टोर नहीं करेगी।”

ज़ाहिर है तमाम विवादों के बीच WhatsApp की ये नई सुविधा कितना कारगर साबित होगी ये तो वक़्त ही बताएगा। कंपनी ने कहा;

“हम WhatsApp वेब और डेस्कटॉप में और भी अधिक सुरक्षा डाल रहे हैं, जब आप अपने WhatsApp अकाउंट को अपने कंप्यूटर से लिंक करना चाहते हैं तो अब आपको सुरक्षा की एक अतिरिक्त परत मिलेगी। यह मौजूदा सुरक्षा उपायों पर आधारित होगा, जो वेब/डेस्कटॉप लॉगिन होने पर आपके फोन में एक नोटिस भेजेगा और उपयोगकर्ताओं को किसी भी समय अपने फोन से डिवाइस को अनलिंक करने की क्षमता भी प्रदान करेगा।”

दरसल WhatsApp के अनुसार या नया फीचर इन मौक़ों को ख़त्म करेगा जब उपयोगकर्ता को पता लगाए बिना WhatsApp को किसी अन्य डिवाइस से लिंक कर सक सके। और जैसा हमनें बताया उपयोगकर्ता किसी भी समय अपने फोन से डिवाइस को अनलिंक कर सकते हैं।

इसके साथ ही इस नए यूजर इंटरफेस (यूआई) में ‘+’ आइकन अब ‘लिंक डिवाइस’ टैग से बदल जाएगा।