दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति के नेतृत्व वाली SpaceX ने रविवार को अपनी Transporter-1 के साथ ही एक और इतिहास रच दिया। जी हाँ! असल में कंपनी ने एक ही उड़ान में एक साथ कई उपग्रह लॉन्च और तैनात करने का नया रिकॉर्ड बनाया है।

आपको बता दें ये लॉन्च असल में SpaceX के राइडशेयर मिशनों में से एक के तौर पर किया गया। असल में अपने इस मिशन में कंपनी आ मक़सद अपने रॉकेट पर ग्राहकों और समान के बीच अपने रॉकेट की पेलोड क्षमता को विभाजित करते हुए उसकी टेस्टिंग करना है, ताकि इसको अधिक से अधिक किफ़ायती बनाने के प्रयास किए जा सकें।

आपको बता दें आज लॉन्च में 143 उपग्रह शामिल थे, जिनमें से 133 अन्य कंपनियों के थे जिन्होंने राइड की बुकिंग की थी।

इसके साथ ही SpaeX ने अपने ख़ुद के 10 स्टारलिंक उपग्रहों को भी लॉन्च किया है, जो पहले से ही 1,000 से अधिक नेटवर्क के साथ कंपनी के ब्रॉडबैंड संचार नेटवर्क को मजबूत करने का काम करेंगें।

इस बीच पिछले हफ्ते एक लॉन्च प्रसारण के दौरान SpaceX ने खुलासा किया कि उसने कनाडा में बीटा ग्राहकों की सेवा शुरू कर दी है और अब कंपनी निजी प्री-लॉन्च टेस्टिंग का विस्तार ब्रिटेन में भी करने का मन बना रही है।

आपको बता दें इस लॉन्च में शामिल ग्राहकों में Planet Labs का भी नाम शुमार रहा, जिसने 48 SuperDove Earth इमेजिंग उपग्रह भेजे।

इसके साथ ही Swarm ने अपने 36 छोटे IoT संचार उपग्रहों को भेजा और Kepler ने भी अपने इसमें भागीदारी की।

दरसल अपने राइडशेयर मॉडल के साथ SpaceX ऐसी छोटी अंतरिक्ष कंपनियों और स्टार्टअप्स की मदद करने का दावा करता है जो ऑर्बिट आदि में अपने तकनीक को स्थापित करने का मन बना रही हों।

दिलचस्प ये है कि अपने इस लॉंच के साथ SpaceX ने सबसे अधिक उपग्रहों को भेजने का जो रिकॉर्ड तोड़ा है, वो पहले भारत के इसरो के ही नाम था।

साथ ही SpaceX के इस लॉंच में पहली बार कंपनी ने अपने Starlink उपग्रहों को ध्रुवीय कक्षा में पहुंचाने का काम किया है, जो कंपनी की ब्रॉडबैंड सेवा के विस्तार में काफ़ी मददगार साबित होगा।

इस बीच ये तो सबसे अहम है कि मिशन में इस्तेमाल Falcon 9 रॉकेट के पहले चरण के बूस्टर की एक बार फिर सफल लैंडिंग दर्ज की गई। जी हाँ! SpaceX अपनी इस खूबी के लिए भी बेहद लोकप्रिय रहा है।