कभी WhatsApp के बड़े प्रतिद्वंदी के रूप में उभरे Hike ने अब अपनी Hike StickerChat सेवा को भी हमेशा के लिए बंद कर दिया है और इसको Google Play Store से भी हटा दिया है। आपको बता दें 6 जनवरी को ही कंपनी के संस्थापक कविन भारती मित्तल ने इस क़दम की घोषणा कर दी थी, हालंकि उन्होंने इसके पीछे का कारण उतनी स्पष्टता से पेश नहीं किया था।

इस बीच Hike ने Vibe और Rush नामक (एक तरीक़े की गेमिंग सेवा) को पेश करने का भी ऐलान किया है, जो Play Store और App Store दोनो पर उपलब्ध होंगी। इस बीच मित्तल ने Hike के कुछ दिलचस्प फ़ीचर को नए प्लेटफार्मों पर भी जारी रखने का मन बनाया है जैसे इसके विभिन्न स्टिकर और इमोजी आदि।

मित्तल ने वर्चूअल दुनिया के निर्माण के अवसरों को एक बेहतर दृष्टिकोण के साथ पेश करने की बात कही क्योंकि आज सस्ते और तेज़ डेटा व स्मार्टफ़ोन के प्रसार के चलते इसकी अहमियत बढ़ गई है।

इस महीने की शुरुआत में ही उन्होंने कहा था कि भारत में स्वदेशी मैसेजिंग सेवा नहीं हो सकती है, क्योंकि “यहाँ वैश्विक प्रभाव बहुत मजबूत हैं।” मित्तल के अनुसार एक भारतीय मैसेजिंग ऐप को अगर बढ़ावा देना है तो सरकार को विदेशी कंपनियों को प्रतिबंधित करना होगा।

इस बीच WhatsApp के नए विवाद के सामने आने के बाद जब देश भर में इसके विकल्पों की तलाश हो रही है ऐसे में Hike का ये निर्णय लोगों को हैरान ज़रूर करता है।

दरसल अपनी नई प्राइवेसी पॉलिसी के चलते बढ़े विवाद में WhatsApp तेज इसे उपयोगकर्ताओं का विश्वास खो रहा है और लोग Signal और Telegram जैसे ऐप्स की ओर रूख कर रहें हैं। और आलम यह है कि हाल के हफ्तों में लाखों उपयोगकर्ताओं ने Signal जैसे ऐप्स का साथ थमा है।

आपको बता दें Signal एक नॉन-प्रॉफ़िट संस्था द्वारा चलाया जा रहा ऐप है, जिसमें अकेले इस महीने ही 30 मिलियन से अधिक इंस्टॉलेशन दर्ज किए गए हैं।