byjus-acquires-offline-test-prep-giant-aakash-institute-for-nearly-1bn

12 जनवरी को Bloomberg में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार दुनिया की सबसे बड़ी एडटेक कंपनी Byju’s ने नई दिल्ली स्थित Aakash Educational Services Ltd का क़रीब $1 बिलियन में अधिग्रहण का मन बनाया है।

1988 में स्थापित, Blackstone Group समर्थित Aakash Educational Services भारत में Aakash Institute नाम से तमाम कोचिंग सेंटरों की एक चेन चलाती है, जो छात्रों क इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश की तैयारियाँ करवाती हैं।

एक दावे के अनुसार इस कोचिंग के पास क़रीब 250,000 से अधिक छात्रों की संख्या है। ये ज़ाहिर तौर पर भारत की कुछ सबसे बड़ी कोचिंग चेन में से एक है।

इस बीच Byju’s ने इस कथित डील में Aakash के संस्थापक, चौधरी परिवार से पूरी हिस्सेदारी ख़रीद ली है। वहीं Blockstone जिसने आखिरी बार 2019 के अंत में Aakash में $500 मिलियन का निवेश किया था, वह Byju’s की हिस्सेदारी के लिए कोचिंग सेंटर में अपनी 37.5% इक्विटी का एक हिस्सा बेच सकता है।

ज़ाहिर है Byju’s इसके साथ देश में शिक्षा क्षेत्र के नज़रिए से अपनी जड़े और भी मज़बूत करता नज़र आएगा, जिसमें डिजिटल हिस्सेदारी की बात करें तो कंपनी पहले ही अग्रणी बनी हुई है। इस नई कथित डील के साथ कंपनी असल में Aakash के इंडस्ट्री से जुड़े अनुभव और अपने प्लेटफ़ॉर्म पर तमाम स्नातक कोर्स की तैयारी आदि के लिए पाठ्यक्रमों का लाभ उठाना चाहेगी।

दरसल COVID 19 महामारी की मार के बाद से ही भारत में एड-टेक बाजार में भारी उछाल आया है। और अलाम ये है कि दुनिया की सबसे बड़ी एड टेक स्टार्टअप Byju’s ने Silver Lake, DST Global, Bond, General Atlantic और Tiger Global आदि से इस बीच काफ़ी निवेश हासिल किया है। कुल मिलाकर इस स्टार्टअप ने पिछले दो सालों में $800 मिलियन से अधिक का निवेश हासिल किया है और इसकी वैल्यूएशन $11 बिलियन से अधिक हो चुकी है।

इस बीच स्कूल बंद होने के चलते कंपनी ने मार्च की शुरुआत में छात्रों के लिए अपने ऐप पर मुफ्त सेवाओं की पेशकश शुरू की थी। इसके साथ ही कंपनी ने हाल ही में WhiteHat Jr का भी $300 मिलियन में अधिग्रहण किया है,जो कम उम्र में बच्चों को कोडिंग सिखाने की सुविधा की पेशकश करता है।

इस बीच ज़ाहिर तौर पर Byju’s के उपयोगकर्ता आधार में भारी वृद्धि देखी गई है। अब तक ऐप में 70 मिलियन से अधिक पंजीकृत छात्र और 4.5 मिलियन से अधिक पेड सदस्यता वाले छात्र शामिल हो चुके हैं।

वहीं अब ऑफ़लाइन क्षेत्र में Aakash का अधिग्रहण करने के बाद कंपनी और तेज़ी से अपनी बाज़ार हिस्सेदारी बढ़ाती नज़र आ सकती है।