jeff-bezos-to-step-down-from-ceo-of-amazon-in-third-quarter

Amazon और Future Group के बीच की जंग अभी थमने का नाम नहीं ले रही है। और क्योंकि अब मामला अदालत में है तो अब दुनिया भर की नज़रें इस मामले में हैं।

और इसी कड़ी में नई दिल्ली हाईकोर्ट ने सोमवार को Future Retail की याचिका को खारिज करते हुए मामले को नया मोड़ दे दिया है। दरसल इस याचिका में Future Group ने Amazon.com Inc द्वारा हाल ही में Reliance Industries के साथ हुए $3.4 बिलियन के सौदे में हस्तक्षेप करने से रोकने की मांग की थी।

दरसल जब से Future Group ने अपने बिज़नेस को मुकेश अंबानी के मालिकाना हक़ वाली Reliance Industries को बेचने का ऐलान किया है, तब से हाई Amazon ने Future Group के साथ हुई अपनी एक पुरानी डील का हवाला देते हुए एक कानूनी जंग छेड़ दी है।

असल में अमेरिका के इस ऑनलाइन रिटेलर के अनुसार यह नई डील 2019 में Future Group के साथ की गई उसकी एक डील की शर्तों को तोड़ती है।

इसी को लेकर अक्टूबर में Amazon ने सिंगापुर की अदालत में Reliance के साथ हुए Future Group के सौदे पर रोक लगाने को लेकर याचिका दी थी, जिसके बाद कोर्ट ने इसको मंज़ूर कर लिया था।

हालंकि इसके बाद ही Reliance और Future Group की ओर से बयान जारी किया गया था कि उन्होंने सभी भारतीय नियमों का पालन करते हुए इस सौदे को अंतिम रूप दिया है। और ऐसे में ये कंपनियाँ तय समय में ही डील को पूरा करने की कोशिश करेंगी।

लेकिन जल्द ही Amazon को भी इसका एहसास हुआ कि सिंगापुर की अदालत में दिया गया आदेश काफ़ी नहीं है, इसलिए उसने भारत के इंडस्ट्री रेग्युलेटर के साथ भी अपनी शिकायत दर्ज करवाई।

दरसल हाईकोर्ट ने कहा कि Amazon को किसी सौदे को लेकर शर्तों के उल्लंघन के मामले में नियामक से ऐतराज जताने से रोका नहीं जा सकता और इसलिए Future Group की याचिका ख़ारिच की जा रही है।