WhatsApp का बहुप्रतीक्षित फीचर WhatsApp Pay जो मंज़ूरी मिलने के बाद भारत में नवंबर में लाइव हुआ था, अब देश में अपने तेज़ी से प्रसार की ओर क़दम बढ़ाता नज़र आ रहा है।

दरसल अब WhatsApp Pay ने अपनी डिजिटल भुगतान सेवा के लिए भारत के चार सबसे प्रमुख बैंकों के साथ साझेदारी की है। दरसल 5 नवंबर को Facebook के मालिकाना हक़ वाले WhatsApp को अपने पेमेंट सुविधा के लिए नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) से मंजूरी मिली थी।

दिलचस्प ये था कि NPCI ने WhatsApp Pay को भारत में एक चरणबद्ध तरीक़े से अपनी इस सेवा को शुरू करने की मंज़ूरी दी है। इसके तहत शुरुआत में इसकी UPI आधारित पेमेंट सुविधा का इस्तेमाल 20 मिलियन भारतीय कर पाएँगें।

और अब देश में भुगतान सेवा को बढ़ाने के लिए WhatsApp ने State Bank of India, ICICI Bank, HDFC Bank और Axis Bank के साथ साझेदारी की है।

ज़ाहिर है कि भारतीय स्टेट बैंक (SBI) देश का सबसे बड़ा बैंक है, जिसके पास 45 करोड़ से अधिक ग्राहक हैं। इतना ही नहीं बल्कि इस बैंक के पास 120 मिलियन से अधिक UPI उपयोगकर्ता हैं। वहीं दूसरी ओर ICICI Bank को भी निजी क्षेत्र के एक प्रमुख बैंक के रूप में ही देखा जाता है। ICICI Bank फ़िलहाल पूरे भारत में 5,288 शाखाओं और 15,158 ATM नेटवर्क रखता है।

इस बीच WhatsApp के साथ ICICI Bank की इस साझेदारी को लेकर ICICI के Digital Channels & Partnership के प्रमुख, श्री बिजिथ भास्कर ने कहा;

“सुविधा को ध्यान में रखते हुए हमनें अप्रैल में ही WhatsApp पर बैंकिंग सेवाएं शुरू कीं थी। इस पहल ने महामारी के दौरान शाखा में जाए बिना हमारे ग्राहकों को आसानी से बैंकिंग सेवाओं का लाभ उठाने में मदद की। क़रीब दो लाख से अधिक उपयोगकर्ताओं ने इस छोटी सी अवधि में WhatsApp पर बैंकिंग सेवाओं को अपनाया है।”

वहीं HDFC Bank को भी भारत के अग्रणी निजी बैंकों के रूप में देखा जाता है। 1994 में एक निजी क्षेत्र का बैंक स्थापित करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) से मंज़ूरी प्राप्त करने वाला ये पहला बैंक था। HDFC का फ़िलहाल 2,848 शहरों और कस्बों में 5,430 शाखाओं और 15,292 ATM का नेटवर्क है। वहीं Axis Bank भारत का तीसरा सबसे बड़ा निजी क्षेत्र का बैंक है, जिसकी देश भर में 4,568 शाखाएँ हैं।

इस बीच इस साझेदारी को लेकर Axis Bank के Cards & Payments के प्रमुख, संजीव मोघे ने कहा;

“हम भारत की वित्तीय सेवाओं में डिजिटल भागीदारी को बढ़ाने के प्रयास कर रहें हैं और एक डिजिटल साथी के रूप में WhatsApp सभी ग्राहकों को सर्विसिंग, ऑनबोर्डिंग और शिकायतों आदि को लेकर बेहतर सेवाएँ प्रदान करेगा। और इसके साथ ही हम नए इनोवेशन आदि के साथ डिजिटल इंडिया में बैंकिंग सेवाओं को भी डिजिटल ले जाने की ओर तेज़ी से बढ़ते नज़र आएँगें।”

आपको बता दें वित्त वर्ष 2025 में भारत में डिजिटल भुगतान $94 ट्रिलियन तक पहुंचने की उम्मीद है। भारत में P2P से लेकर P2B आदि तरीक़े के पेमेंट को लेकर UPI सिस्टम काफ़ी तेज़ी से लोकप्रिय हो रहा है। और ऐसे में इसका WhatsApp जैसी लोकप्रिय मैसेजिग सेवा के साथ मिलना वाक़ई लोगों को और भी सहूलियत देगा। और लोगों को डिजिटल सेवाओं की ओर रूख करने को लेकर बढ़ावा भी देता नज़र आएगा।

ज़ाहिर है Facebook के मालिकाना हक़ वाला WhatsApp देश ही नहीं बल्कि दुनिया भर में काफ़ी लोकप्रिय मैसेजिंग ऐप बन चुका है। इसके दुनिया भर में लगभग 2 बिलियन सक्रिय उपयोगकर्ता हैं। आपको बता दें मंज़ूरी मिलने के बाद से ही NPCI द्वारा जारी आँकड़ो की माने तो WhastApp Pay ने 13 करोड़ रुपये के 0.3 मिलियन लेनदेन दर्ज किए हैं।

इस बीच WhatsApp India के प्रमुख अभिजीत बोस ने कहा;

“हम पूरे भारत में व्हाट्सएप उपयोगकर्ताओं के लिए सरल और सुरक्षित डिजिटल पेमेंट सुविधा की पेशकश को लेकर SBI, ICICI Bank, HDFC Bank और Axis Bank के साथ हाथ मिलाने को लेकर बेहद उत्साहित हैं। UPI बेशक एक क्रांतिकारी सुविधा है और इसके ज़रिए डिजिटल अर्थव्यवस्था से बढ़ी संख्या में उपयोगकर्ताओं को जोड़ा जा सकता है।”