apple-ceo-tim-cook-donate-funds-covid-19-india

एक बड़ा क़दम उठाते हुए Apple Inc ने अब यह जानकारी दी है कि कंपनी ने अपने ताइवानी कॉन्ट्रैक्टर Wistron Corp के भारत स्थित प्लांट में इस बात की जाँच कर रही है कि कहीं सप्लायर के दिशानिर्देशों का उल्लंघन तो नहीं किया गया है। आपको बता दें इसी प्लांट में हाल ही में हिंसा भी देखने को मिली थी, जिसके बाद ये क़दम उठाया गया है।

ये ख़बर Reuters के हवाले से सामने आई और ये इसलिए भी दिलचस्प हो जाती है क्योंकि Wistron असल में Apple के टॉप ग्लोबल सप्लायर्स में से एक है।

और ख़ासकर भारत जाहन कुछ ही समय पहले ही Apple से अपने Iphones का निर्माण शुरू किया था, Wistron के इस प्लांट में ही iPhone 7 हैंडसेट और दूसरी पीढ़ी के iPhone SE डिवाइस बनते हैं।

आपको बता दें ट्रेड यूनियन के प्रतिनिधियों ने कहा कि हफ़्ते भर पहले बेंगलुरु के बाहरी इलाके में स्थित इस प्लांट में कर्मचारियों ने बचे हुए वेतन और काम करने के बेहतर समय आदि की माँग की गई थी, क्योंकि कुछ अज्ञात कर्मचारियों ने दावा किया था कि फैक्ट्री में कर्मचारियों को ऐसी कई सुविधाओं से वंचित रखा जा रह है।

इसी बीच रिपोर्ट के मुताबिक़ कारखाने के अंदर कर्मचारियों द्वारा बनाए गए वीडियो में कुछ लोगों द्वारा सिक्युरिटी  कैमरे, खिड़कियां और अन्य चीज़ों को छड़ और लाठी से तोड़ते हुए देखा गया है।

इस बीच रिपोर्ट की मनें तो इस हिंसा को लेकर पुलिस ने 149 लोगों को गिरफ्तार किया है। वहीं Apple ने कहा कि यह कर्मचारियों को मिलने वाली सुविधाओं की अनदेखी के लिए अपने कुछ अधिकारियों को निरीक्षण करने भेज रहा है।

दरसल कंपनी ने एक बयान में कहा,

“हमारी टीम स्थानीय अधिकारियों के साथ संपर्क में हैं और हम उनकी जांच में अपना पूरा सहयोग दे रहे हैं। Apple मांग करता है कि उसके सप्लायर, श्रमिकों के साथ सम्मानजनक व्यवहार करें और निष्पक्ष व नैतिक रूप से काम करें साथ ही सभी को सुरक्षा प्रदान की जाए।”

इस बीच Wistron ने भी इस हिंसा को दुखद बताते हुए कुछ अज्ञात व्यक्तियों को उनके अस्पष्ट इरादों के लिए दोषी बताया है। कंपनी ने कहा कि;

“कंपनी हमेशा कानून का पालन करती है, और वह अधिकारियों की जाँच में पूरी तरह से सहयोग कर रही है।”