facebook-blocks-resign-modi-posts-for-hours

Facebook के लिए मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। दरसल अब अमेरिका के 46 राज्यों के 48 AGs, जिसमें Federal Trade Commission (FTC) भी शामिल है, ने अब Facebook के पर गलत तरीक़ों से प्रतियोगियों को दबाने को लेकर मुक़दमा किया है।

दरसल इस मुकदमें के तहत फ़िलहाल की Facebook की कॉर्पोरेट इकाई आदि के ज़रिए लगाए गए प्रतिबंधों को ख़त्म करने को कहा गया है। Trump प्रशासन के दौरान दायर हुए इस FTC मुक़दमे में ऐसा माना जा रहा है कि कोई बड़ी कार्रवाई देखने को मिल सकती है।

दरसल Facebook को ख़ुद पर चल रहे अलग-अलग एंटीट्रस्ट मुकदमों से निपटना है, जिसकी घोषणा न्यूयॉर्क के अटॉर्नी जनरल Letitia James और FTC द्वारा की गई थी।

इस मुकदमे में सबकी ख़ास नज़र इसलिए भी हैं क्योंकि इसमें मुख्य रूप से Facebook द्वारा किए गए दो विवादास्पद अधिग्रहणों का ज़िक्र हैं, जिसमें Instagram का $1 बिलियन में किया गया अधिग्रहण और WhatsApp का $19 बिलियन में किया गया अधिग्रहण शामिल है।

इन दो अधिग्रहणों को लेकर Facebook पर लगातार सोशल मीडिया क्षेत्र में एकाधिकार स्थापित करने की कोशिशों का आरोप लगता रहा है। आपको बता दें दुनिया भर में सबसे अधिक इस्तेमाल होने वाले टॉप तीन सोशल मीडिया प्लेटफार्मों का मालिक Facebook ही है। और इन्हीं बिंदुओं को इन मुकदमों ने विशेष रूप से उठाया है।

Letitia James ने हाल में कहा;

“क़रीब एक दशक से Facebook अपने बड़े और छोटे प्रतिद्वंद्वियों को कुचलने और प्रतियोगिता में एकाधिकार स्थापित करने की कोशिश कर रहा है।”

“Facebook अपने संभावित प्रतिद्वंद्वियों को ख़रीदने के लिए बड़े पैमाने पर पैसों का इस्तेमाल कर रहा है और यह किसी भी स्वस्थ प्रतियोगी बाज़ार के नज़रिए से सही नहीं है।”

आपको बता दें हाल ही में Congress की Hearing के दौरान भी Facebook के सीईओ को इन सवालों का सामना करना पड़ा था।

इस बीच James ने आगे कहा,

“इस मुक़दमे से Facebook और अन्य कंपनियों को यह संदेश जानना चाइए कि प्रतिस्पर्धा को कम करने, इनोवेशन को कम करने या प्राइवेसी सुरक्षा में कटौती करने के किसी भी प्रयास का हमारे ऑफ़िस द्वारा पूरी ताक़त के साथ विरोध किया जाएगा।”

वहीं FTC ने वाशिंगटन में दायर अपने स्वयं के मुकदमे में कहा,

“FTC संघीय अदालत में एक स्थायी सामाधन की मांग कर रहा है, जैसे Instagram और WhatsApp सहित अन्य चीज़ों के उचित रूप से विभाजन की ज़रूरत है, साथ ही सॉफ़्टवेयर डेवलपर्स पर प्रतिस्पर्धा विरोधी शर्तों को लागू करने से Facebook पर रोक लगे और भविष्य में अधिग्रहण या विलय के लिए Facebook को पहले से सूचित करके मंज़ूरी लेनी हो।”

इस बीच Facebook ने एक Tweet के ज़रिए कहा कि यह मुकदमें उसको निराश करते हैं, क्योंकि सरकार व्यापार कम्यूनिटी पर पड़ने वाले व्यापाक प्रभाव की कोई परवाह नहीं करती दिखाई पड़ रही है।