phonepe-charge-processing-fees-on-mobile-recharges-above-rs-50

देश के फ़िनटेक जगत को एक और बड़ी ख़बर हाथ लगी है। दरसल अब तक Walmart द्वारा Flipkart के अधिग्रहण के बाद से ही ई-कॉमर्स दिग्गज़ के बैनर तले देश में अपना संचालन करने वाले PhonePe को अब एक अलग इकाई बना दिया है। इतना ही नहीं बल्कि इस ऑनलाइन पेमेंट प्लेटफ़ॉर्म ने ताज़ा $700 मिलियन का निवेश भी हासिल किया है।

जी हाँ! PhonePe ने भले इस नए निवेश दौर को लेकर कुछ स्पष्ट रूप से सामने ना रखा हो, लेकिन इतना तय है कि इस निवेश का नेतृत्व Walmart ने ही किया था। इसके साथ ही अब PhonePe की वैल्यूएशन $5.5 बिलियन पहुँच गई है।

दरसल PhonePe अपनी वैल्यूएशन और नए निवेश को लेकर काफ़ी सालों से संघर्ष कर रहा था। इस बीच इस आंशिक रूप से अलग हुए Flipkart के पास अब PhonePe में 100% की बजाए 87% की हिस्सेदारी होगी।

इस बीच TechCrunch की एक रिपोर्ट के अनुसार PhonePe के संस्थापक और सीईओ समीर निगम ने एक बयान में कहा,

“यह आंशिक रूप से अलग होने का प्रॉसेस अब 1 बिलियन भारतीयों को अपनी वित्तीय सेवाओं के जोड़ने के हमारे मिशन के लिए PhonePe को भविष्य में भारी निवेश आदि हासिल करने की सहूलियत देता है।”

इस बीच इतना तो साफ़ हो गया है कि PhonePe में Flipkart अभी भी बड़ा हिस्सेदार बना रहेगा और दोनों कंपनियाँ आपसी सहयोग जारी रखेंगी।

आपको बता दें अक्टूबर में PhonePe ने UPI पेमेंट के मामले में Google Pay को भी पीछे छोड़ दिया था। दरसल UPI जो भारत के सबसे बड़े बैंकों द्वारा बनाया गया चार साल पुराना पेमेंट सिस्टम है, वह देश में बेहद तेज़ी से लोकप्रिय हो रहा है और लोग भी इसको तेज़ी से अपना रहें हैं।

ऐसे में आने वाले समय में अधिक से अधिक लोगों को UPI पेमेंट इस्तेमाल करने के लिए अपने प्लेटफ़ॉर्म के जोड़ने की हर एक कंपनी कोशिश कर रही है, जिसमें Paytm, Google Pay और PhonePe प्रमुख नामों में से एक हैं।

PhonePe ने Google Pay से आगे निकलते हुए अक्टूबर में 835 मिलियन UPI लेनदेन का आँकड़ा छुआ था, जबकि उस महीने Google Pay पर कुल क़रीब 820 मिलियन UPI लेनदेन हुए थे।

इस बीच Flipkart Group के सीईओ, कल्याण कृष्णमूर्ति ने कहा;

“Flipkart हमेशा से ही ई-कॉमर्स क्षेत्र में भारतीय ग्राहकों की हर ज़रूरतों को पूरा करना जारी रखेगा। इस क़दम के ज़रिए हमनें PhonePe की क्षमताओं को बढ़ाने में मदद मिलेगी और अधिक से अधिक निवेश हासिल कर यह कंपनी विकास का एक नया दौर देखती नज़र आएगी।”

दरसल कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार PhonePe भारत के कुछ उन स्टार्टअप्स में से एक माना जाता है जो तीन साल के भीतर IPO फाइल कर सकते हैं।

PhonePe को पहले UPI लेनदेन के लिए लॉन्च किया गया था और ट्रैवल बिल, बिजली बिल, आदि सेवाओं में धीरे धीरे इसका विस्तार किया गया और अब PhonePe ने फ़ूड डिलीवरी आदि के लिए Switch सेवा की भी शुरुआत की है।

इस बीच PhonePe ने 100 मिलियन से अधिक मासिक सक्रिय उपयोगकर्ताओं के साथ भारत के बाहर विस्तार का भी मन बनाया है, ऐसा कुछ रिपोर्ट दावा करती हैं।

दरसल PhonePe, Paytm और Google Pay UPI क्षेत्र में हिस्सेदारी को बढ़ाने को लेकर ये जल्दबाज़ी इसलिए भी दिखा रहें हैं क्योंकि WhatsApp Pay को भी देश के भीतर मंज़ूरी मिल चुकी हैं और ऐसे में अपने 400 मिलियन से अधिक उपयोगकर्ताओं के साथ यह देश में कम समय में UPI पेमेंट क्षेत्र का एक बड़ा खिलाड़ी बन सकता है।