जैसा की उम्मीद की ही जा रही थी, Reliance जो कि पहले से ही भारत के सबसे अमीर व्यक्ति के मालिकाना हक़ वाली कंपनी है, ने अब इस साल भी रिकॉर्ड तोड़ वृद्धि दर्ज की है। लेकिन इस बार यह आँकड़े और भी ख़ास हैं।

दरसल इस साल की तीसरी तिमाही में Reliance Industries ने राजस्व में $17.4 बिलियन का आँकड़ा छुआ है, जो साफ़ तौर पर पिछली तिमाही में 27% अधिकि है। इसके साथ ही इसकी टेलीकॉम कंपनी Jio Infocomm ने सिर्फ एक देश में 400 मिलियन ग्राहक आधार का भी आँकड़ा छू लिया है, जो चीन के बाहर अपने में एक रिकॉर्ड है।

EBITDA में दर्शाए गए कंपनी नोट 7.9% बढ़कर $3.2 अरब हो गए हैं। इसके अलावा कंपनी का कुल PAT (Profit After Tax) $1.4 बिलियन रहा जो तुलनात्मक रूप से 28% अधिक था।

इसके साथ ही ख़ास यह भी रहा कि कंपनी के राजस्व में इसके उपभोक्ता व्यवसाय का 49.6% योगदान रहा और इसने इस इकाई से $8.7 बिलियन का राजस्व कमाया। वहीं रिटेल कारोबार में कुल राजस्व $ 5.6 बिलियन का था, जो पिछली तिमाही से 30% तक बढ़ा नज़र आया।

दरसल इन सब के पीछे मुकेश अंबानी ने नेतृत्व वाली इस कंपनी द्वारा Future Group का अधिग्रहण और KKR और Silver Lake जैसे निवेशकों से निवेश हासिल करना वजह रही।

Jio Platforms Limited से कंपनी ने $2.9 बिलियन की आय की, और यह पिछली तिमाही की तुलना में 7.1% अधिक थी। इस तिमाही के लिए EBITDA क़रीब $1.1 बिलियन रहा, जबकि शुद्ध लाभ $40.8 मिलियन के साथ 19.8% की वृद्धि के साथ नज़र आया।

वहीं Jio में प्रति तिमाही औसत राजस्व ₹145.0 प्रति माह प्रति सब्सक्राइबर रहा, जो पिछली तिमाही में ₹140.3 प्रति सब्सक्राइबर प्रति माह था। दरसल यह आँकड़ा भारत जैसे देश में और अहम हो जाता है, जहां टेलीकॉम ऑपरेटर्स मार्जिन बनाए रखने के लिए काफ़ी संघर्ष कर रहे हैं।

वहीं जैसा कि हमनें पहले ही बताया Jio इस तिमाही तक में देश में 400 मिलियन ग्राहकों तक पहुंच बनाने में कामयाब रहा, जो ख़ुद में एक रिकॉर्ड है।

इस बीच इन परिणामों को लेकर Reliance Indutries Ltd के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक, मुकेश अंबानी ने कहा:

“हमने पेट्रोकेमिकल और रिटेल क्षेत्र में रिकवरी के साथ पिछली तिमाही की तुलना में बेहद शानदार परिणाम हासिल किए हैं और साथ ही हमारे डिजिटल कारोबार में भी लगातार वृद्धि हो रही है। घरेलू मांग में तेजी से हमारे O2C व्यवसाय में भी सुधार हुआ है।”

“Jio और रिटेल व्यापार में पिछले छह महीनों में काफ़ी निवेश हासिल किया है और हम Reliance परिवार में अपने सभी अहम रणनीतिक और वित्तीय निवेशकों का स्वागत करते हैं। और इसी के साथ ही हम भारत में ही अपना ध्यान केंद्रित करते हुए और भी तेज़ी से वृद्धि का सिलसिला जारी रखेंगें।”