इस बात में कोई शक नहीं है कि बढ़ते इंटरनेट के प्रसार के साथ ही साथ भारतीय स्मार्टफोन बाजार भी लगातार बढ़ रहा है। और अब तो देश में बाज़ार COVID-10 के चलते हुए लॉकडाउन के बाद फिर से उभरते नज़र आने लगें हैं।

दरसल Counterpoint Research की एक रिपोर्ट के अनुसार 2020 की तीसरी तिमाही में रिकॉर्ड 53 मिलियन यूनिट का आँकड़ा छूटे हुए भारत के स्मार्टफोन शिपमेंट में 9% की वृद्धि हुई है।

लेकिन सबसे ख़ास यह है कि यह रिपोर्ट बताती है कि Samsung ने एक बार फिर से देश के स्मार्टफ़ोन बाजार में अपनी हिस्सेदारी को बढ़ाते हुए टॉप स्थान हासिल कर लिया है।

आपको बता दें Xiaomi ने पिछले लगातार तीन सालों से भारतीय स्मार्टफोन बाजार में हिस्सेदारी के मामले में टॉप स्थान पर बना हुआ था, लेकिन अब Xiaomi को पछाड़ते हुए Samsung ने वापस अपनी जगह हासिल की है। रिपोर्ट के अनुसार, Xiaomi अभी भी टॉप ऑनलाइन ब्रांड ज़रूर बना हुआ है।

लेकिन कुल रूप से भारत के शिपमेंट मार्केट शेयर के टॉप स्मार्टफोन ब्रांड कुछ इस प्रकार हैं, Samsung, Xiaomi, Vivo, Realme और Itel

रिपोर्ट के अनुसार मोबाइल हैंडसेट बाजार में तीसरी तिमाही में 8% की साल दर साल वृद्धि दर्ज की गई है, और इसमें स्मार्टफोन और फीचर फोन दोनों की बिक्री के आँकड़ों को शामिल किया गया है। लेकिन अगर सिर्फ़ फीचर फोन बाजार की बात करें तो इसमें 5% की सलाना वृद्धि हुई है और इसमें Itel ब्रांड का दबदबा रहा। इसके बाद Samsung और Lava ने इस सेगमेंट में बाज़ी मारी है।

वहीं स्मार्टफ़ोन सेगमेंट में ₹10,000 से लेकर ₹20,000 तक के मिड रेंज फ़ोनों की बिक्री में भारी वृधि दर्ज की गई है।

पर हाल ही में आई Canalys और Counterpoint की रिपोर्ट में विरोधाभास भी हैं। एक ओर जहाँ Canalys की रिपोर्ट के अनुसार, सबसे अधिक शिपमेंट बाजार हिस्सेदारी वाली कंपनी Xiaomi है, जिसके हिस्सेदारी 25.9% बताई गई है, जिसके बाद Samsung 20.6% हिस्सेदारी के साथ दूसरे नम्बर पर है।

लेकिन Counterpoint की रिपोर्ट की मानें तो Samsung को 24% स्मार्टफोन शिपमेंट मार्केट शेयर के साथ पहले स्थान पर रखा गया है और इसके बाद 23% मार्केट शेयर के साथ Xiaomi दूसरे पायदान पर है।

इसके बाद भी दोनों रिपोर्ट इस बात से सहमत हैं कि स्मार्टफोन बाजार ने Q3 2020 में रिकॉर्ड उच्च शिपमेंट का आँकड़ा छुआ है। पर आँकड़ों की बात करें तो Canalys के अनुसार यह 50 मिलियन शिपमेंट का है, वहीं Counterpoint के अनुसार यह आँकड़ा 53 मिलियन को छूता है।

लेकिन इन दोनों रिपोर्टों के बीच भले थोड़ा अंतर हो, पर इस बात में कोई शक नहीं है कि भारतीय स्मार्टफोन बाज़ार रिकॉर्ड पैमाने पर बढ़त देख रहा है।

दरसल जहाँ कुछ समय पहले तक इसके रिकवरी को लेकर तमाम अटकलें लगाई जा रहीं थीं वहीं अब Counterpoint Research के सीनियर रिसर्च एनालिस्ट प्रचिर सिंह ने कहा है कि बाजार ने पिछले कुछ महीनों से लगातार वृद्धि दर्ज कर रहा है।

इस बीच ई-कॉमर्स दिग्गज जैसे Flipkart और Amazon ने अपने अपने फ़ेस्टिवल सेल के ज़रिए भी स्मार्टफोन की बिक्री में तेज़ी दर्ज की।

दरसल हाल के माहौल में मनोरंजन के साथ ही साथ पढ़ाई के लिए भी स्मार्टफ़ोन की ज़रूरत काफ़ी बढ़ गई है और ऐसे में लोगों के बीच मिड रेंज सेगमेंट काफ़ी तेज़ी से लोकप्रिय हो रही है।

इस बीच एनालिस्ट प्रचिर सिंह ने कहा;

“महामारी के चलते भारतीय लोगों ने छुट्टियों आदि में घूमने के लिए बचत करना बंद कर दिया है और अब उस पैसे को वह अच्छा स्मार्टफोन आदि खरीदनें में लगा रहें हैं, जो उनकी ज़िंदगी का अहम हिस्सा बन चुकें हैं।”