इस महामारी के दौर में देश ही नहीं बल्कि दुनिया भर की कई कंपनियाँ ‘सामान्य’ रूप से अपने व्यावसायिक संचालन को लेकर जूझती नज़र आई। लेकिन यह भी एक सच है कि Work From Home आदि जैसे उपायों के चलते कई कंपनियों ने सफ़तलापूर्वक आना दिन-प्रतिदिन का काम स्थायी रूप से चलाया। और अब कई कंपनियों ने इसको एक स्थाई विकल्प के रूप में भी देखना शुरू कर दिया है। और इसी लिस्ट में अब HCL और Tech Mahindra का नाम भी शुमार हो चुका है।

दरसल Business Insider की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ Tech Mahindra के CFO मनोज भट्ट ने कहा कि कंपनी के कम से कम 25% से 30% कर्मचारियों को लॉकडाउन ख़त्म होने के बाद भी स्थायी रूप से घर से काम करने की सुविधा देगी।

उनके अनुसार इस क़दम के ज़रिए कई नीतियों में बदलाव, सुविधाओं में बदलाव, टैलेंट आदि को ऑन-बोर्ड करने आदि के मॉडल में भी बदलाव देखने को मिलेंगें।

आपको बता दें Tech Manhidra की योजना अगली चार तिमाहियों के भीतर इसको अमल में लाने की है। इसका मतलब है कि शायद अगले साल 2021 के मार्च या जून तक आपको कंपनी के 25-30% कर्मचारी घर से ही काम करते नज़र आएँ।

दरसल भारत की टोप आईटी कंपनियों जैसे Infosys, TCS आदि ने भी 25/25 वाले इस मॉडल के साथ पिछली तिमाही में Work From Home को अपने ऑपरेटिंग मॉडल का एक स्थायी हिस्सा बनाने की योजना का ऐलान किया था।

और अब ऐसा लगता है कि HCL Technologies ने भी इसको अपनाने का मन बनाया है और इसने इसको 50/50 के मॉडल पर तैयार करने का फ़ैसला किया है।

आपको बता दें TCS के नए 25/25 मॉडल का प्रस्ताव है कि केवल 25% कर्मचारी ही ऑफ़िस में होंगे और कोई भी कर्मचारी अपने ऑफ़िस में केवल 25% समय व्यतीत करेगा। भारत की सबसे बड़ी आईटी कंपनी की योजना है कि अगले पांच वर्षों में इसको ज़मीनी हक़ीक़त में बदला जाए।

वहीं HCL के 50/0 मॉडल का मतलब  हैकि यह अपने 50% कर्मचारियों के घर से काम करने सहूलियत देगा और अगले 12-18 महीनों में ऑफ़िस में केवल 50% स्टाफ़ को ही बुलायाएगा।

दरसल इन कंपनियों को घर से काम करने और ऑफ़िस आकार काम करने, दोनों तरह के कल्चर को साथ लेकर चलने से कई फ़ायदे नज़र आ रहें हैं और इसलिए अब यह सभी कंपनियों इन दोनों के मिक्स के सात ही अपने अपने संचालन मॉडल को अपडेट करते नजर आ रही हैं।