इस बात में कोई शक नहीं है कि Reliance Jio देश में तेज़ी से टेलीकॉम क्षेत्र में कई अहम बदलाव लाने में कामयाब रही है। लेकिन इन बदलावों के साथ ही साथ मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाली यह कंपनी भारतीय उपयोगकर्ता आधार को बढ़ाने और निवेश के लिहाज़ से भी बेहद कामयाब रही है।

और अब इन्हीं बातों पर मोहर लगाई है भारत के दूरसंचार नियामक TRAI (टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी इंडिया) द्वारा जारी किए गये एक डेटा रिपोर्ट ने, जिसके मुताबिक़ अंबानी के मालिकाना हक़ वाला Jio अब भारत में 400 मिलियन यानि 40 करोड़ ग्राहकों का आँकड़ा पार कर गया है, और यह अमेरिका की कुल जनसंख्या से भी अधिक है।

TRAI की मानें तो कंपनी ने जुलाई में ही 3.5 मिलियन उपयोगकर्ताओं को अपने साथ जोड़ते हुए 400 मिलियन उपयोगकर्ताओं को पंजीकृत करने वाला भारत का पहला दूरसंचार ऑपरेटर बन गया। यह प्रदर्शन इसलिए भी अहम हो जाता है क्योंकि इस साल जून में दूरसंचार क्षेत्र में कुल सब्स्क्राइबर आधार 1.16 बिलियन से जुलाई में मामूली रूप से बढ़कर 1.164 बिलियन पहुँचा। और इन आँकड़ो में अब Reliance Jio की बेहतरीन हिस्सेदारी का अनुमान लगाया जा सकता है।

वहीं Airtel और BSNL ने जुलाई में क्रमश: 3.26 मिलियन और 388,000 मोबाइल ग्राहकों को अपने अपने नेट्वर्क के साथ जोड़ा है। वहीं भारत में Idea के साथ आकार काम करने वाले Vodafone ने अपनी नई पहचान VI के तहत 3.7 मिलियन से अधिक ग्राहक खो दिए और MTNL ने भी 5,457 मोबाइल सेवा ग्राहकों को खो दिया है।

ज़ाहिर है अब Reliance Jio 40,08,03,819 ग्राहकों के साथ बाज़ार में 35.03% हिस्सेदारी रखता है और देश की दूसरी सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी Airtel के पास अभी 15 करोड़ के क़रीब ही उपयोगकर्ता आधार है, और वहीं VI में यह आँकड़ा 11 करोड़ के आसपास ही है। इस बीच आपको बता दें सार्वजनिक दूरसंचार कंपनी BSNL के पास जुलाई के अंत तक 23 मिलियन का ग्राहक आधार रहा।

ज़ाहिर है Jio ने इस क्षेत्र में अपने प्रतियोगियों से हमेशा एक क़दम आगे ही रहने की कोशिश की है। और हाल ही में ही कंपनी ने Facebook, Google, Qualcomm, Intel और KKR जैसे तमाम बड़े निवेशकों से क़रीब $20 बिलियन का निवेश भी हासिल किया था, और अब कंपनी देश में सबसे पहले 5G तकनीक विकसित करने पर भी विचार कर रही है। इतना ही नहीं बल्कि इस 5G गेम प्लान में Jio ने रिटेल से लेकर शिक्षा, स्वास्थ्य और भी अहम क्षेत्रों को शामिल किया है।

बता दें हाल ही में ही कंपनी ने देश में पहली बार इन-फ्लाइट सेवाएं प्रदान कर, भारत की ऐसी पहली भारतीय दूरसंचार ऑपरेटर बनने का ख़िताब हासिल किया। यह सुविधा अभी के लिए अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों तक सीमित है, लेकिन यह Jio की इनोवेशन को लेकर आगे बढ़ने की मंशा को साफ़ दर्शाता है।