भारत में त्यौहारी सीज़न शुरू होने ही वाला है और ऐसे में देश में सबसे अधिक तैयारी ई-कॉमर्स कंपनियों ने की है। इसका एक कारण भी है, असल में COVID-19 के चलते बने हालातों में उसमें ऑनलाइन बिक्री की ओर रुझान तेज़ी से बढ़ा है और उसपे भी त्यौहार।

आपको बता दें इसी कड़ी में Amazon India ने भी 17 अक्टूबर से शुरू होने वाली अपनी सेल को लेकर तैयारियाँ तेज कर दी हैं। और अब इसने भारत में अपनी पेमेंट सुविधा यानि Amazon Pay को लेकर ₹700 करोड़ के निवेश का ऐलान किया है।

दरसल बिजनेस इंटेलीजेंस फर्म Tofler द्वारा एक्सेस किए गए एक रेगुलेटरी डॉक्यूमेंट के अनुसार, Amazon Pay India ने अपने मौजूदा शेयरधारकों को राइट्स आधार पर 70 करोड़ इक्विटी शेयर 10 रुपये प्रति शेयर के हिसाब से आवंटित किए हैं।

इस नियामक फाइलिंग की मानें तो शेयर सिंगापुर स्थित इकाई Amazon Corporate Holdings Private Ltd और Amazon.com को आवंटित किए गए थे।

यह इसलिए भी अहम हो जाता है क्योंकि Amazon, Flipkart और Paytm Mall जैसे कई बड़े ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म ग्राहकों को अपने प्लेटफार्मों पर आकर्षित करने के लिए अपने अपने पेमेंट सिस्टम पर भारी छूट और ऑफ़र की पेशकश करने का भी दाँव आज़माने लगें हैं।

और इसलिए अब अपने अपने पेमेंट प्लेटफ़ॉर्म को ही मज़बूत करते हुए छूट और कैशबैक प्रदान करने की होड़ इन कंपनियों में मच गई है। Entrackr के अनुसार, Amazon Pay ने जून में 60 मिलियन लेनदेन दर्ज किए थे, और यह देश में Google Pay, PhonePe और Paytm के लिए एक बड़े प्रतिद्वंदी के रूप में उभर रहा है।

याद दिला दें इसी साल Amazon Pay को जनवरी में कुछ निवेश हासिल हुआ था, जिसके तहत Amazon की होल्डिंग कंपनी से इसने ₹1,355 करोड़ प्राप्त किए थे। 2016 में अपनी शुरुआत के बाद से ही Amazon Pay अपनी मूल कंपनी से निवेश के रूप में कुल ₹5,055 करोड़ जुटा चुकी है।

इसके साथ ही कंपनी के मालिक Jeff Bezos ने 2025 तक भारत में 10 मिलियन से अधिक छोटे और मध्यम व्यवसायों को डिजिटल प्लेटफॉर्म में बदलने के लिए $1 बिलियन के निवेश की घोषणा की थी।

इस बीच त्यौहारी सीज़न को देखते हुए Amazon कई तरह से तैयारियाँ कर रहा है। और फ़िलहाल इसका मुख्य प्रतिद्वंदी Walmart समर्थित Flipkart है जो हाल ही में अपनी पैरेंट कंपनी से $560.45 मिलियन का निवेश हासिल कर चुका है और देश में PhonePe का संचालन भी करता है।