jio-to-launch-a-short-video-app-platform

Reliance Jio ने एक बार फिर से देश को एक नई सेवा को प्रदान करने जा रहा है। दरसल Reliance Jio ने Panasonic Avionics Corporation की सहायक कंपनी AeroMobile के साथ साझेदारी कर भारत की पहली इन-फ्लाइट सेवा की शुरुआत की है। आपको बता दें यह इन-फ्लाइट सेवाएं फ़िलहाल ‘JioPostpaid Plus’ भारतीय यूज़र्स को विदेश यात्रा के दौरान मिल सकेंगी।

Jio की इस इन-फ्लाइट सेवा के ज़रिए भारतीय यात्री को विदेश यात्राओं के दौरान सस्ती दरों पर उड़ान में वॉयस और डेटा सेवाओं का लाभ उठा सकतें हैं।

एक बार भारतीय हवाई क्षेत्र में सेवाएं उपलब्ध होने के बाद सभी Jio ग्राहकों के पास इस तक पहुंच होगी,ताकि वे भारत के भीतर उड़ानों पर भी जुड़े रह सकें।

ज़ाहिर है देश में पहली बार इस इन-फ्लाइट रोमिंग सर्विस की शुरुआत करते हुए Jio ने एक बार फिर से अपने को भारतीय टेलीकॉम क्षेत्र में इनोवेशन और तकनीक रूप से अग्रणी कंपनी के तौर स्थापित कर दिया है। आपको बता दें Jio भारत में क़रीब 400 मिलियन का उपयोगकर्ता आधार रखती है।

वहीं इस नई साझेदारी और सेवाओं के आग़ाज़ पर Jio के निदेशक आकाश अंबानी ने कहा;

“JioPostpaid Plus, जो अपने को एक बेहतरीन गुणवत्ता वाली सेवा के रूप में उपयोगकर्ता के बीच स्थापित कर चुका है, अब AeroMobile के साथ साझेदारी के माध्यम से उपयोगकर्ताओं को इन-फ़्लाइट सेवाओं की भी पेशकश करेगा। हम इस नई सेवा के आग़ाज़ को लेकर बेहद रोमांचित हैं, क्योंकि इससे हमारे ग्राहकों को हाई-क्वॉलिटी और सुरक्षित रोमिंग सुविधा का लाभ उठाने में मदद मिलेगी और 20,000 फीट की ऊँचाई पर भी हमारे JioPostpaid Plus उपयोगकर्ता हमेशा कनेक्ट कनेक्टेड रह सकते हैं।”

Jio ने अपनी इन-फ़्लाइट मोबाइल कनेक्टिविटी सेवाओं के लिए 22 एयरलाइनों के साथ साझेदारी की है, जिनमें Emirates, Etihad Airways, Lufthansa, Malaysian Airlines, Singapore Airlines, Virgin Atlantic, Aer Lingus, Air Serbia, Alitalia, Cathay Pacific शामिल हैं।

वहीं इसके साथ ही Mobility Panasonic Avionics के सीनियर डायरेक्टर और AeroMobile सीईओ, Kevin Rogers ने भी इस साझेदारी को लेकर अपने दिए एक बयान में कहा;

“हम Jio के साथ साझेदारी करके बेहद खुश हैं और इसके ज़रिए अब हम पूरे भारत में अपनी कनेक्टिविटी सेवाओं की पहुंच को व्यापक बना सकेंगें। नई इन-फ्लाइट रोमिंग बंडल के साथ, JioPostpaid Plus को अब हवाई यात्राओं के दौरान कनेक्टिविटी को लेकर परेशान नहीं होना पड़ेगा।”