TikTok की कहानी रोज़ कुछ नए मोड़ लेती नज़र आ रही है। दरसल एक नई रिपोर्ट के अनुसार Oracle ने बोली में Microsoft को हराते हुए अब TikTok को हासिल करने में कामयाब होता नज़र आ रहा है। WSJ की एक रिपोर्ट के ज़रिए सामने आई यह ख़बर दावा करती है कि Oracle को TikTok के “विश्वसनीय तकनीकी साझेदार” के रूप में घोषित किया जा सकता है और यह सौदा संभवतः एक बाहरी बिक्री के रूप में दर्ज नहीं किया जाएगा।

लेकिन आपको बता दें डील कोई भी हो, लेकिन वह सबसे पहले White House में अप्रूवल के लिए भेजी जाएगी, जो Trump प्रशासन द्वारा महज़ के एक औपचारिकता की तर्ज़ पर देखी जा रही है, ऐसा इसलिए भी क्योंकि Trump प्रशासन अब तक कभी किसी बिज़नेस डील को लेकर इतनी गहराई से अवरोध बनता नहीं दिखा है। वहीं WSJ की रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से यह भी बताया गया है कि Oracle से लेकर ByteDance दोनों का ही यह मानना है कि इस संभव डील में ऐसा कुछ भी नहीं है जो अमेरिकी सरकार द्वारा प्रस्तावित नियमों का पालन न करता हो, और ऐसे में इसे तुरंत ही मंज़ूरी दी जा सकती है।

लेकिन कुछ भी हो, शुरू से ही Microsoft का इस डील को लेकर आगे रहना और अचानक Microsoft की बोली का ठुकरा देना, यह एक बड़ी घटना है। वह भी तब जब Microsoft को डायरेक्ट-टू-कंज्यूमर डिजिटल क्षेत्र में दिग्गजों में गिना जाता हो और जब यह संघर्ष कर रहे शॉर्ट फॉर्म वीडियो प्लेटफॉर्म के लिए सबसे उपयुक्त विकल्प के रूप में देखा जा रहा हो। लेकिन अब अपने मूल व्यवसाय में ही थोड़ा संघर्ष कर रहा Oracle अचानक से बोली में आगे निकल गया और इसलिए अब इस नयी संभावित डील के अन्य भी कई मायने तलाशे जाने लगें हैं।

दरसल अगर यह सौदा होता है तो Oracle के लिए यह एक बड़ी जीत हो सकती है, क्योंकि वह अपने मूल संचालन क्षेत्र में AWS, Google Cloud और Microsoft Azure से प्रतिद्वंदिता करते हुए संघर्ष करता नज़र आ रहा है।

इस बीच आपको बता दें अभी तक इस सौदे को लेकर कुछ भी पुख़्ता रूप से सामने नहीं आया है, लेकिन

रिपोर्ट में इतना ज़रूर कहा गया है कि यह कोई मामूली अधिग्रहण नहीं होने वाला है। दरसल इस सौदे को एक अधिग्रहण के बजाय ‘साझेदारी’ का रूप भी दिया जा सकता है। इस मामले के जानकार बताते हैं कि इस डील में संपत्ति को लेकर कोई अहम लेनदेन नहीं हो सकता और शायद कई मौजूदा निवेशक जैसे Sequoia Capital आदि प्रडील के बाद भी कंपनी में इक्विटी बरक़रार रखें।

वहीं रविवार को एक बयान में Microsoft ने, जिसने इस डील के लिए Walmart से भी साझेदारी की थी, कहा कि ByteDance ने उसको कुछ दिन पहले ही बता दिया था कि वह बोली को ठुकरा रहा है। इस बीच कंपनी ने कहा कीं

“हमें विश्वास है कि राष्ट्रीय सुरक्षा हितों की रक्षा करते हुए हमारा प्रस्ताव TikTok के उपयोगकर्ताओं के लिए अच्छा रहा होगा।ऐसा करने के लिए, हमने यह सुनिश्चित किया था कि इसमें महत्वपूर्ण परिवर्तन किए जाएँगें जैसे कि सेवा सुरक्षा, गोपनीयता, ऑनलाइन सुरक्षा और अपडेट आदि के उच्चतम मानकों को क़ायम करना आदि, और हमने अपने अगस्त के बयान में भी अपने इन विचारों को रखा था।”

आपको याद दिला दें जैसे ही TikTok ने अपने अमेरिकी व्यवसाय के लिए के अधिग्रहण को लेकर बातचीत शुरू की थी, तभी Trump ने एक आदेश में कंपनी को महज़ 45 दिनों का वक़्त दिया था। इसमें TikTok के साथ ही साथ WeChat को भी शामिल किया गया था, और Trump की यह समयसीमा 15 सितंबर को समाप्त होने वाली है। जिसके बाद देश में इन ऐपों को बैन कर दिया जाएगा।

इसके पहले भारत ने भी राष्ट्रीय सुरक्षा चिंताओं और अपर्याप्त उपयोगकर्ता डेटा गोपनीयता विकल्पों का हवाला देते हुए TikTok को बैन कर दिया था। बैन से पहले तक भारत TikTok का सबसे बड़ा विदेशी बाजार था। लेकिन भारतीय और चीनी सेनाओं के बीच हुए सीमा विवाद को और बढ़ता देख भारत ने बेहद लोकप्रिय गेम, PUBG को भी कुछ दिन पहले ही बैन कर दिया है।