तमाम अटकलों पर आख़िरकार विराम लगाते हुए आख़िरकार मुकेश अंबानी ने उन्हें सच साबित कर दिया। जी हाँ! मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाली Reliance Industries ने अपनी रिटेल इकाई, Reliance Retail venture Ltd (RRVL) के लिए निवेश हासिल करने की शुरुआत कर दी है।

और अब इसी कड़ी में सबसे पहले निजी इक्विटी फर्म Silver Lake ने Reliance Retail में 1.75% हिस्सेदारी ख़रीदते हुए $1.02 बिलियन का निवेश किया है। इस निवेश के दौरान Reliance Retail की वैल्यूएशन $57 बिलियन के आसपास आँकी गई थी।

आपको बता दें यह Reliance industries द्वारा Silver Lake से हासिल किया गया दूसरा निवेश है, क्योंकि इस साल की शुरुआत में ही इसने अपने टेलीकॉम इकाई Jio Platforms के लिए Silver Lake से $1.35 बिलियन का निवेश हासिल किया था।

इस बीच इस नए निवेश को लेकर मुकेश अंबानी ने एक बयान में कहा,

“देश भर में भारतीय उपभोक्ताओं को शानदार सुविधा प्रदान करते हुए लाखों छोटे व्यापारियों के साथ एक साझेदारी बनाने के हमारे परिवर्तनकारी प्रयासों को अब Silver Lake का भी साथ मिला है और इसको लेकर मैं काफ़ी खुश हूँ। हमारा मानना ​​है कि टेक्नॉलजी इस क्षेत्र में बहुत जरूरी बदलाव लाने में अहम भूमिका निभा सकती है जिससे रिटेल क्षेत्र में विभिन्न चीज़ों को साथ लेकर उसको एक एक प्लेटफार्म पर और सहूलियत तरीक़े से विकसित किया जा सके। भारतीय रिटेल क्षेत्र में हमारी सोच को आगे बढ़ाने के लिए Sliver Lake की साझेदारी काफ़ी अहम होगी।”

ज़ाहिर है Reliance Retail देश का सबसे बड़ा और सबसे तेजी से बढ़ने वाली रिटेल कमपनी है। इसने हाल ही में ही भारत की दूसरी सबसे बड़ी रिटेल फर्म, Future Group में बड़ी हिस्सेदारी हासिल की है और इसके साथ ही देश के रिटेल मार्केट में अपनी पकड़ और मजबूत करते हुए अपने सबसे बड़े प्रतियोगिता को खत्म कर दिया है।

इसका ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म JioMart को लॉन्च करना इसके साथी कंपनी Jio के लिए भी लाभदायक साबित हुआ, दरसल इन्हीं सब के चलते Jio ने महामरी के दौरान भी रिकॉर्ड निवेश हासिल करने में सफ़लता पाई थी।

आपको बता दें इस महीने की शुरुआत में Reliance Retail ने Jio Platforms के सभी 13 निवेशकों को RRVL में निवेश करने की पेशकश की थी, जिसके बाद से ही अटकलें लगाई जाने लगी थीं कि Reliance अब Jio Platforms से अलग अपनी Retail इकाई को भी मज़बूत करने की दिशा में निवेश हासिल करने के सिलसले की शुरुआत करेगा।

लेकिन ऐसा इसलिए भी है क्योंकि इस मल्टी-ब्रांड रिटेलिंग में भारत के खुदरा क्षेत्र के बार प्रत्यक्ष विदेशी निवेश यानि FDI में प्रतिबंध लगा हुआ है। तो इसका मतलब साफ़ है कि RIL अपने निवेशकों के साथ इतनी आसानी से ‘साझीदार’ नहीं कर सकता है। लेकिन इतना ज़रूर है कि Jio Platforms की ही तरह कंपनी को वित्तीय और रणनीतिक साझेदारी करने से नहीं रुकेगी।

आपको बता दें इस साल अकेले अब तक Silver Lake भारतीय निजी कंपनियों में $2.5 बिलियन से अधिक का निवेश कर चुका है। हाल ही में ही इसने एड टेक प्लेटफॉर्म BYJUs में भी $500 मिलियन के निवेश दौर का नेतृत्व किया था, जिसकी घोषणा कल की गई थी।

इस बीच Silver Lake के सह-सीईओ और मैनेजिंग पार्टनर, Egon Durban ने कहा;

“इतने कम समय में JioMart की सफलता, वह भी ऐसे समय में जब दुनिया COVID-19 महामारी से लड़ती नज़र आ रही है, वाक़ई हैरान करता है और अभी तो इसके रोमांचक सफ़र की शुरुआत ही हुई लगती है। Reliance की यह नई कॉमर्स रणनीति इस दशक की कुछ शानदार चीओं में से एक बन सकती है। और हमें ख़ुशी है कि हम भारतीय रिटेल के इस मिशन में Reliance के साथ भागीदारी करने के लिए आमंत्रित किए गए।”

ज़ाहिर तौर से यह निवेश अब RRVL को और भी अधिक बढ़ावा देगा और यह देश भर में और तेज़ी से अपने प्रचार प्रसार को बढ़ाते हुए अपने को स्थापित करने की कोशिश करेगी। इस बीच ख़बरें यह भी हैं कि KKR भी Reliance Retail में क़रीब $1 बिलियन का निवेश करने के लिए बातचीत कर रही है।