चीनी स्मार्टफोन निर्माता Xiaomi ने कहा है कि भारत के स्मार्टफोन बाजार ने लॉकडाउन के बाद “बहुत दृढ़ता से” वापसी की है, जो मुख्य रूप से ऑनलाइन सेवा के चलन और नई ऑनलाइन शिक्षा से जुड़ी भारी मांग के चलते हुआ है।

दरसल यह बयान Xiaomi India के मैनेजिंग डायरेक्टर मनु जैन ने ईटी को दिए एक इंटरव्यू में दिया। इसमें उन्होंने कहा माना कि भारत में उत्पादन अपने पिछले स्तरों पर नहीं पहुंचा है, और कंपनी अभी भी विदेशों से छोटी मात्रा में फोन आयात कर रही है।

दरसल मनु जैन की मानें तो देश का यह सेक्टर तेज़ी से COVID-19 की पूर्व की स्थिति में निर्माण कार्यों को शुरू करना चाहता है, लेकिन कुछ कारखाने COVID-19 रोगी व महामारी की वजह से वापसी शुरू नहीं हो सकें हैं और इसलिए अभी भी वापसी की दर में पूरी तरह से वृद्धि दर्ज नहीं की जा रही है।

इस बीच उन्होंने यह भी माना कि मौजूदा हालातों के चलते Xiaomi की ऑफलाइन योजनाओं को भी झटका लगा है, लेकिन कंपनी को इस साल के अंत तक इस चैनल के माध्यम से कुल बिक्री का 50% हिस्सेदारी सुनिश्चित करने की उम्मीद है।

इस बीच आपको बता दें भारत के इस प्रमुख स्मार्टफोन ब्रांड ने सोमवार को उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में अपना 3000वां Mi Store खोला है और इसी के साथ अब देश भर के 850 शहरों में MI Store खुल चुके हैं।

Xiaomi के वर्तमान में इन 3000 Mi स्टोर्स के साथ 75 Mi Homes, 45 Mi Studios, 8000 Mi Preferred Partners और 4000 बड़े रिटेल पार्टनर्स भी हो गए हैं।

दरसल Mi Store कुछ ऑफ़लाइन व्यापार में 30% का योगदान करते हैं। और ऐसे में यह कंपनी और इसके भागीदारों को एक अच्छा रिटर्न प्रदान करते हैं। इस बीच मनु जैन ने कहा कि Mi Stores के माध्यम से देश भर में 6000 लोगों को रोज़गार भी मिला है।

साथ ही थर्ड पार्टी रिपोर्ट का हवाला देते हुए उन्होंने यह भी बताया कि अब Xiaomi का ऑफलाइन नेटवर्क देश भर में Samsung के नेटवर्क से 40-50% अधिक हो गया है और Bata और Dominos के नेट्वर्क से 100% बड़ा बन गया है।

इस बीच मनु जैन ने यह भी दावा किया कि Xiaomi स्मार्ट टीवी, लैपटॉप और ट्रिमर आदि सेगमेंट में भी भारी माँग दर्ज कर रहा है। इसके अलावा कंपनी के दो सेगमेंट में माँग कम हुई बताई जा रही है और उसका कारण है कि लोग कम ही बाहर निकल रहे हैं, और उन सेगमेंट को कंपनी सिर्फ़ ऑनलाइन ही बेच पा रही है।