food-ordering-on-zomato-swiggy-to-get-costlier-from-january-1-2022

भारत का फ़ूड डिलीवरी क्षेत्र COVID-19 से उभरता नज़र आने लगा है। दरसल अगर COVID-19 के पहले के हालातों से तुलना करें तो यह जगत 75-80%  रिकवरी करता दर्ज कर रहा है। और ऐसी उम्मीदें की जा रहीं हैं कि अगले 2-3 महीनों में इस क्षेत्र का बिज़नेस कोरोना के पूर्व हालातों वाले स्तर पर पहुँच जाएगा।

दरसल Zomato की एक नई रिपोर्ट में यह आँकड़े सामने आएँ हैं। लेकिन इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि डाइनिंग आउट जगत अभी भी पहले के हालातों की अपेक्षा 8-10% रिकवरी ही दर्ज कर रहा है।

पर इसके विपरीत, फ़ूड डिलीवरी क्षेत्र में यही आँकड़ा 70% का है, जो वाक़ई इस क्षेत्र के लिए अच्छे संकेत हैं। और इतना ही नहीं बल्कि इन आँकड़ों में क़रीब 5% ऐसे डिलीवरी पार्टनर भी शामिल हैं, जो पहले सिर्फ़ डाइन-इन सुविधा देते थे, लेकिन महामारी के बाद अब उन्होंने डिलीवरी की ओर भी रूख किया है।

इसके साथ ही दिलचस्प रूप से यह रिपोर्ट यह भी बताती है कि मेट्रो शहरों में रहने वाले जिन जिन लोगों को उनकी कंपनियों ने घर से काम करने का विकल्प दिया है, वह अपने घर यानि दूसरे शहरों में चले गये हैं।

दरसल अपनी रिपोर्ट में Zomato ने कहा कि COVID-19 से पहले मेट्रो शहरों के उसके हर पाँच में से 1 ग्राहक ने हाल ही में किसी दूसरे छोटे शहर में ऐप ओपन की है।

ख़ास यह है कि पहले ऑर्डर के बाद ग्राहकों की ऑर्डर करने की फ्रिक्वेंसी COVID के पहले के हालातों की ही तरह COVID के दौरान के हालातों में भी बरक़रार रही। इसका साफ़ सा मतलब यह है कि ग्राहकों के लिए सुरक्षा को लेकर जो डर है वह उनके पहले ऑर्डर को करने के बाद धीरे धीरे ख़त्म हो रहा है।

लेकिन Zomato की रिपोर्ट में यह ज़रूर कहा गया है कि डाइनिंग-इन इंडस्ट्री में मंदी की वजह ग्राहकों का वाइरस ट्रांसमिशन आदि का डर ही है और इसलिए अभी बहुत से रेस्तरां पूरी तरह से खुल नहीं सकें हैं।

रिपोर्ट के अनुसार जिन शहरों में प्रतिबंध हटा दिए गए हैं, वहाँ भी केवल क़रीब 17% तक ही डाइनिंग आउट रेस्तरां खुले हुए हैं, जो बेशक कम क्षमता के साथ संचालन कर रहें हैं।

इसके साथ ही जो 83% रेस्तरां नहीं खुलें हैं, उनमें से 10% रेस्तरां तो अब स्थायी रूप से बंद हो गए हैं। और रिपोर्ट में लगाए गये अनुमान के अनुसार यह आँकड़ा अभी 30 से भी अधिक जा सकता है।

इस बीच भारत में Swiggy को कड़ी टक्कर देने वाली Zomato की इस रिपोर्ट के अनुसार अंतरराष्ट्रीय बाजारों में मजबूत रिकवरी भारत में भी कंपनी को एक आशावादी तस्वीर ज़रूर पेश करती है।

दरसल न्यूजीलैंड, दुबई और पुर्तगाल जैसे बाजारों में Zomato के डाइनिंग आउट लेन-देन पहले से ही पूर्व COVID-19 हालातों की ही तर्ज़ पर वापस आ गये हैं।