fantasy-cricket-startup-dream11-dream-sports-raises-rs-6248-cr

भारत की सबसे बड़ी फ़ैंटसी गेमिंग कंपनी Dream11 अब Indian Premier League (IPL) के 13वें संस्करण का ‘Title Sponsor’ के तौर पर चुन लिया गया है। आपको बता दें IPL 2020 19 सितंबर को दुबई (UAE) में आयोजित किया जा रहा है।

दरसल Dream 11 ने 222 करोड़ रुपये की बोली के साथ यह स्पॉन्सरशिप हासिल की है। इस बीच ईटी की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ इस टाइटल स्पॉन्सर के लिए अन्य दो बोलियाँ ₹201 करोड़ और ₹171 करोड़ की क्रमशः BYJUs और Unacademy की तरफ़ से लगाई गई थी, और इसके अलावा BCCI को और कोई बोली नहीं मिली थी।

Dream11 पहले से ही भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) को IPL के आधिकारिक भागीदार के रूप में प्रति वर्ष 40 करोड़ रुपये का भुगतान कर रहा था, और अब यह IPL 2020 के लिए 182 करोड़ रुपये और देगा।

आपको बता दें चीनी स्मार्टफोन निर्माता Vivo ने 2022 तक पांच साल की अवधि के लिए IPL की Title Sponsorship ख़रीदी थी। इस सौदे के तहत, Vivo ने बोर्ड को ₹2,190 करोड़ या कहें तो लगभग ₹440 करोड़ प्रति सीजन के हिसाब से भुगतान करने का तय किया था।

लेकिन हाल ही में चीन और भारत के बीच बढ़े विवादों और साथ ही साथ दुबई में होने जा रहे IPL संस्करण के चलते कंपनी को लीग के मुख्य स्पॉन्सर होने में शायद बहुत अधिक फ़ायदा नज़र नहीं आया।

आपको बता दें भारत में चीनी उत्पादों के बहिष्कार की जो लहर चल रही है उसको भी Vivo के इस फ़ैसले के पीछे की वजह बताया जा रहा है। लेकिन इतना ज़रूर है कि Vivo ने BCCI ने पारस्परिक रूप से IPL 2020 के बाद के अगले सीज़न के लिए यह साझेदारी वापस शुरू करने पर सहमति व्यक्त की।

बता दें भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने 10 अगस्त को इस स्पॉन्सरशिप के लिए बोलियाँ लगाने का आग़ाज़ किया था और इसमें 18 अगस्त की दोपहर 1 बजे तक बोलियां जमा करने की अंतिम तिथि तय की गई थी।

लेकिन रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि BCCI की शर्त के मुताबिक़ बोली लगाने वाली कंपनी को पिछले वित्तीय वर्ष में कम से कम ₹300 करोड़ का राजस्व दिखाना ज़रूरी था। साथ ही बोर्ड ने यह भी साफ़ कर दिया था कि सबसे अधिक बोली लगाने वाला जरूरी नहीं कि विजेता बने।

वहीं BCCI पहले से ही कम से कम 200-220 करोड़ रुपये की उम्मीद कर रहा था, जबकि जानकार ₹150-₹170 करोड़ रुपये का ही अनुमान लगा रहे थे।