uber

COVID-19 महामारी के चलते जो व्यवसाय सबसे अधिक प्रभावित हुए उनमें से कैब क्षेत्र भी एक रहा। लेकिन एक सच यह भी है कि Uber और Lyft जैसी कंपनियों ने बड़ी संख्या में लोगों को काम पर रखने का ऐसा तरीक़ा अपनाया हुआ है, जिससे इन्हें सीधे तौर पर कर्मचारियों को भर्ती नहीं करना पड़ता।

दरसल ये प्लेटफ़ॉर्म अपने ड्राइवरों को कर्मचारी नहीं मानते हैं, और यह तर्क देते हैं कि वह इन ड्राइवर्स को स्वतंत्र रूप से भी काम करने देना चाहते हैं। लेकिन कैलिफ़ोर्निया की उच्च अदालत के जज Ethan Schulman को इन कंपनियों का तर्क पसंद नहीं आया और उन्होंने इन कंपनियों को अब अपने ड्राइवरों को ‘कर्मचारियों’ के रूप में मान्यता देने के आदेश दिए।

पर ऐसा लगता है कि Uber आसानी से इस फ़ैसले को मानने वाला नहीं है और इसलिए अब कंपनी के सीईओ Dara Khosrowshahi ने यह कहा है कि अगर जज अपने फैसले पर पुनर्विचार नहीं करते हैं तो कंपनी को कैलिफोर्निया में अपना संचालन बंद करना पड़ सकता है।

जी हाँ! Dara Khosrowshahi ने MSNBC को दिए एक इंटरव्यू में कहा; “यह मानना कठिन है  कि हम अपने मॉडल को पूर्णकालिक रोजगार में जल्दी से बदल पाएंगे।”

Dara Khosrowshahi का यह बयान लेकिन बहुत आश्चर्य का विषय नहीं बन सका। दरसल COVID-19 के चलते पहले से ही घाटे में चल रही कंपनी इस तरह के अचानक इतने बड़े पैमाने पर वित्तीय बोझ उठाने में समर्थ नहीं है और इसलिए कंपनी के पास संचालन को बंद करना ही एकमात्र विकल्प बचेगा।

और अगर ऐसा हुआ तो भले कैलिफोर्निया में सेवाओं का बंद होगा कोर्ट की जीत मानी जाए लेकिन बेशक इससे ड्राइवर समुदाय को बहुत अधिक नुकसान होगा। और Uber और Lyft दोनों के लिए शटडाउन खतरों को बढ़ता देख ये डर और भी बढ़ जाता हैं।

आपको बता दें अदालत ने कल यह आदेश दिया और जज Schulman ने माना की यह प्रक्रिया वास्तव में महंगी साबित होगी। उन्होंने यह भी कहा कि इस तरह का बदलाव, जो इन कंपनियों के पूरे व्यापार मॉडल को प्रभावित करता है, उनके व्यवसाय के तरीकों को ‘महत्वपूर्ण ढंग’ से बदल कर रख देगा। लेकिन सिर्फ़ इतने से इस मामले को नज़रंदाज़ नहीं किया जा सकता इसलिए कंपनियों को 10 दिन का अल्टीमेटम दिया गया है।

असल में अगर Uber इन नए आदेशों का पालन करता है तो उसे अपने कर्मचारियों को बेरोजगारी लाभ प्रदान करना होगा, जो कोरोनोवायरस के प्रभाव को देखते हुए कंपनी के लिए काफ़ी महँगा साबित हो सकता है।

याद दिला दें कंपनी ने पहले ही यह ऐलान किया था कि Q2 में उसकी स्थिति बहुत अच्छी नहीं है और शुद्ध राजस्व में 29% की गिरावट भी आई है जो औसतन 27% मानी जा रही है, और इसका राजस्व $2.24 बिलियन तक ही सिमट आया है। और इसलिए कंपनी अब यही उम्मीद कर रही है कि अदालत अपने फ़ैसले पर पुनर्विचार करे।