एक बार फिर से TikTok ने भारत में सुर्ख़ियाँ बटोरनी शुरू कर दी है। और इस बार ये ख़ास इसलिए है क्योंकि अब TikTok के साथ ख़बरें साझा कर रहा है Reliance.

जी हाँ! अपने Jio Platforms में फ़ंडिंग को लेकर दुनिया भर के उपभोक्ता इंटरनेट जगत में हलचल पैदा करने वाला Reliance अब TechCrunch की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ TikTok की पैरेंट चीनी कंपनी ByteDance के साथ बातचीत के स्तर पर है, जिसके तहत Reliance अब TikTok के भारतीय बिज़नेस में निवेश का मन बना रहा है।

आपको बता दें फ़िलहाल भारत में बैन TikTok India के वैल्यूएशन $3 बिलियन के क़रीब बताई जाती है। लेकिन इस संभावित सौदे को लेकर बाज़ार

में बहुत आश्चर्यजनक की स्थिति नहीं है। ज़ाहिर है TikTok वर्तमान में सबसे कठिन दौर से गुजर रहा है।अपने दूसरे सबसे बड़े बाजार भारत में बैन होने के बाद अब अमेरिका ने भी TikTok को देश से बैन कर दिया है। और यही दोनों देश इस प्लेटफ़ोर्म के लिए चीन के बाद सबसे अधिक उपयोगकर्ता आधार लाते थे।

आपको याद दिला दें भारत सरकार ने जून में TikTok सहित 59 चीनी ऐप्स को बैन कर दिया था, जिसके पीछे तर्क यह था कि यह ऐप देश की सुरक्षा और संप्रभुता के लिए एक ‘खतरा’ हैं। वहीं कुछ ही हफ़्ते पहले अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने भी एक कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर किए, और ByteDance के साथ किसी भी अमेरिकी कंपनी के बीच सभी लेनदेन पर प्रतिबंध लगा दिया।

बता दें ख़बरें यह है कि आदेश के प्रभावी होने के पहले पहले Microsoft असल में TikTok के अमेरिकी बाज़ार का अधिग्रहण करने का मन बना रहा है, जिसमें कुछ अन्य बाज़ारों को भी शामिल किया जा सकता है।

दरसल बैन होने से पहले भारत में TikTok ने क़रीब 200 मिलियन से अधिक का एक बड़ा उपयोगकर्ता आधार बना लिया था, जिससे TikTok के लिए चीन के बाद भारत दूसरा सबसे बड़ा बाज़ार बन गया था। साथ ही कंपनी ने देश में एक बड़े पैमाने पर नियुक्त भी की, और फ़िलहाल इसके बाद देशभर में 2000 से अधिक कर्मचारी हैं। और अभी भी ByteDance भारत में कर्मचारियों की छंटनी की योजना नहीं बना रहा है क्योंकि यह सरकार के साथ मौजूदा मुद्दों को लेकर अभी भी बातचीत कर रहा है।

वहीं Reliance के लिए भी यह सौदा काफ़ी मायने रखता है, क्योंकि अपने Jio Platforms पर क़रीब COVID-19 महामारी के सबसे अधिक प्रभाव के दौरान भी क़रीब महीनें भर में $20 बिलियन का फ़ंड हासिल करने वाली कंपनी अब भारत में एक ऐसे ऐप की तलाश में है जो ग्राहकों के बीच इसकी जड़ों को और मज़बूत कर सकें।

ज़ाहिर है पहले ही 400 मिलियन से अधिक उपयोगकर्ता आधार वाली और Facebook, Google, Intel, Qualcomm जैसे बड़े नामों को निवेशकों की सूची में शामिल रखने वाली इस कंपनी के लिए यह मौक़ा देश के 200 मिलियन से अधिक उपयोगकर्ताओं तक पहुँच उनसे सीधे जुड़ सकने का होगा।

इस बीच हम बता दें कि अभी तक Reliance ने इस खाबर कि पुष्टि नहीं की है। लेकिन RIL के एक प्रवक्ता ने Times Now को दिए एक बयान में कहा है कि

“हमारी कंपनी निरंतर ही विभिन्न अवसरों का मूल्यांकन करती रहती है। साथ ही हम SEBI के नियमों और स्टॉक एक्सचेंजों के साथ हमारे समझौतों के तहत अपने दायित्वों का पालन भी करते रहेंगें।”