शायद माहौल फिर से बदलने लगा है और निवेश की ख़बरें अपनी जगह बनाने लगी हैं। और अब इसी कड़ी में एजुकेशन टेक्नोलॉजी स्टार्टअप Toppr ने Foundation Holdings से ₹350 करोड़ का ताज़ा निवेश हासिल करने का ऐलान किया है।

लेकिन दिलचस्प यह है कि मुंबई स्थित Toppr ने सीरीज़ डी दौर से आए इस निवेश को अपने एआई (AI) लर्निंग प्रोडक्ट के साथ ही साथ कोडिंग और स्कूलों के लिए नए प्लेटफॉर्म को लॉन्च करने में इस्तेमाल करने का ऐलान किया है।

इसके साथ ही कंपनी एआई-आधारित Toppr School Operating System, एक ऐसा प्लेटफॉर्म विकसित करने के लिए भी भी इस निवेश का इस्तेमाल करेगी जो लर्निंग के लिए अब स्कूल व स्कूल के बाद भी स्टैंडर्ड और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान करेगा।

2013 में आईआईटी बॉम्बे के पूर्व छात्र ज़ीशान हयात और हेमंत गोटेती द्वारा स्थापित किया गया यह स्टार्टअप अब तक लगभग 700 करोड़ रुपये का निवेश हासिल कर चुका है।

वहीं इस नए निवेश में दिलचस्प बात यह भी रही कि इस दौर में Toppr के मौजूदा निवेशक Kaizen Private Equity ने भी अपनी भागीदारी दर्ज करवाई।

दरसल अपने प्लेटफ़ोर्म पर क़रीब 13 मिलियन उपयोगकर्ताओं के होने का दावा करने वाला Toppr अपने निवेशकों की सूची में SAIF Partners, Helion Ventures और Eight Roads Ventures सहित कुछ व्यक्तिगत निवेशकों को भी शामिल किए हुए है।

Toppr में निवेश व्यापक भारतीय एड-टेक क्षेत्र में हाल ही में आए बड़े निवेशो में से एक है। ख़ास यह है कि यह क्षेत्र एक ऐसा क्षेत्र साबित हुआ जिसको COVID-19 के चलते नाटकीय बढ़त मिली। देश भर में हुए लॉकडाउन के चलते जब शिक्षा संस्थानों को भी बंद कर दिया गया तब छात्रों ने बड़ी संख्या में इन वेब-आधारित और मोबाइल ऐप प्लेटफार्मों की मदद ली।

यही कारण भी है कीं पिछले सात महीनों में Byju’s Learning, Unacademy, Vedantu और Lido Learning आदि ने कई निवेश हासिल किए या कर रहें हैं और उसमें भी सबसे अच्छी बात यह है कि यह निवेश इन कंपनियों को General Atlantic, Facebook, Tiger Global, GGV Capital और Coatue Management आदि जैसे बड़े नामों से मिलें हैं।

वहीं बात करें Foundation Holdings की तो, दुबई आधारित यह रणनीतिक निवेश फर्म मुख्य रूप से भारत और अन्य खाड़ी देशों में स्वास्थ्य, शिक्षा और उपभोक्ता क्षेत्रों में दांव लगना पसंद करती है।

पिछले साल ही इसने घोषणा की थी कि यह अगले पांच वर्षों में Ryan International Group के साथ एक संयुक्त उद्यम के रूप में $100 मिलियन का निवेश करती नजर आएगी।