भारतीय फ़िनटेक जगत इस वक़्त हर एक बड़ी कंपनी के आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। और अब अन्य कई डिजिटल पेमेंट दिग्गजों के नक्शेकदम पर चलते हुए Google Pay ने भी अपने भुगतान व्यवसाय में उधार संबंधी सुविधाओं की शुरुआत के लिए डिजिटल लोन प्रदाताओं और NBFC के साथ भागीदारी की है।

जी हाँ! असल में प्लेटफॉर्म ने डिजिटल लेंडिंग स्टार्टअप ZestMoney के साथ साझेदारी की है, जिसमें लोन आदि की सुविधा Google Pay Spot प्लेटफॉर्म के माध्यम से भी उपलब्ध होगी।

दरसल बिज़नेस स्टैंडर्ड की एक रिपोर्ट के अनुसार Google अब आगे ZestMoney के जैसे अपने Spot प्लेटफॉर्म पर अन्य लोन प्रोवाइडर्स को भी जोड़ना चाहता है।

दिलचस्प यह है कि Google के इस प्लेटफ़ोर्म पर ZestMoney लाइव हो चुका है, और साथ ही यह भी ख़बर है कि इसने अब तक कई हजारों एप्लिकेशन प्राप्त भी कर लिए हैं।

इसके लिए उपयोगकर्ता Google Pay पर खुद को रेजिस्टर कर सकते हैं। इसके बाद KYC आदि को पूरा कर आप ZestMoney वेबसाइट या ऐप के बिना क्रेडिट सीमा के लिए अपनी पात्रता की जांच कर सकते हैं। यह सुविधा एंड्रॉइड पर उपलब्ध है, जबकि iOS संस्करण पर यह सुविधा महीने भर के भीतर शुरू की जाने की संभावना है।

आपको बता दें यह फिनटेक स्टार्टअप असल में ग्राहकों को अपनी योग्य सीमा तक क्रेडिट का लाभ उठाने की अनुमति देगा, जिसका उपयोग Mi, MakeMyTrip, Curefit, Myntra, Amazon और Flipkart सहित 3,000-ऑनलाइन और ऑफलाइन चैनलों में किया जा सकता है।

आपको बता दें पिछले सितंबर ही Google ने व्यवसायों को प्लेटफ़ॉर्म पर वर्चुअल स्टोर स्थापित करने की अनुमति देते हुए Spot फीचर को पेश किया था। इसने विभिन्न श्रेणियों में व्यापारियों की मदद की, खुदरा से लेकर वित्तीय सेवाओं, डिजिटल भुगतान प्लेटफ़ॉर्म पर उपभोक्ताओं के लिए आसान अनुभव देने आदि की पहल की है।

दरसल COVID-19 महामारी के दौरान देश में तेज़ी से डिजिटल भुगतान प्लेटफॉर्म और अन्य वित्तीय सेवा प्रदाता जैसे क्रेडिट लेंडिंग आदि की माँग बढ़ी है। और ऐसे में हर कंपनी इस संभावनाओं से भरे क्षेत्र में दाँव खेलना चाहती है।

लेकिन ज़ाहिर है Google इस ओर तेज़ी से प्रयास कर रहा है, क्योंकि उसको भी एहसास है कि Facebook के स्वामित्व वाले WhatsApp Pay आदि जैसी सेवाओं के लॉंच होने के बाद उसकी राह थोड़ी मुश्किल ज़रूर हो सकती है।

पर इतना ज़रूर है कि देश में अब तक Google ने अपने GPay के ज़रिए काफ़ी लोकप्रियता अर्जित कर ली है और UPI आधारित लेनदेन के लिए यह लोगों और व्यापारियों की पहली पसंद बन चुका है।