पर्सनल डेटा प्रोटेक्शन बिल 2019

यह तो सभी तो याद होगा कि पिछले ही महीने डेटा प्राइवेसी से समझौता करने के आधार पर भारत सरकार ने देश में 59 चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगा दिया था। इस आदेश के बाद अब सरकार ने और अन्य ऐप्स पर भी प्रतिबंध लगाने की शुरुआत कर दी है, और इसमें सबसे पहले Helo Lite, ShareIt Lite, Bigo Lite और VFY Lite आदि ऐप्स को Google Play Store व iOS App Store से बैन कर दिया गया है।

आपको बता दें ‘Lite’ ऐप्स वह होतें हैं जिनमें कोई तकनीकी सहायता प्रदान नहीं की जाती और साथ ही इसमें सीमित फ़ीचर्स प्रदान किए जाते हैं। इतना ज़रूर है कि 29 जून को 59 चीनी ऐप पर प्रतिबंध के बाद ही कुछ के Lite वर्जन भी इंटरनेट से ग़ायब हो गये थे।

लेकिन अब इसी कड़ी में MEITY के एक अधिकारी ने हिंदुस्तान टाइम्स को दिए एक बयान में कहा;

“कुछ ऐप्स के Lite संस्करण बैन के बाद भी काम करते पाए गये थे, और इसलिए अब उन्हें एप्लीकेशन स्टोर्स से हटाने के निर्देश दिए गये हैं।”

याद दिला दें इस हफ़्ते की शुरुआत में सरकार ने लगाए गये प्रतिबंध के उल्लंघन को लेकर भी इन ऐप कंपनियों को चेतावनी जारी की थी। दरसल इनमें से कुछ ऐप्स बैन के बाद भी इंटरनेट पर थर्ड पार्टी वेबसाइट के माध्यम से डाउनलोड और इस्तेमाल के लिए उपलब्ध थे, जिसके बाद सरकार ने इन्हें चेताते हुए इनके ख़िलाफ़ कार्यवाई करने की चेतावनी जारी की।

दरसल सूचना प्रौद्योगिकी प्रौद्योगिकी अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार, आईटी मंत्रालय ने इन बैन किए गये ऐप कंपनियों को लिखा कि क़ानून बैन के बाद भी एप्लिकेशन की ऐसे उपलब्धता और संचालन एक दंडनीय अपराध है, और ऐसा पाए जाने पर दंडात्मक कार्यवाई की जा सकती है।

दरसल पिछले कुछ समय से काफ़ी ऐसी ख़बरें आ रहीं हैं कि बैन हुए ऐप्स में शामिल ClubFactory अभी भी Google Play Store और iOS ऐप स्टोर से हटाए जाने के बाद भी वैकल्पिक साइटों के माध्यम से देश में डाउनलोड के लिए उपलब्ध था। बुधवार तक ये पोर्टल के ज़रिए भारत में अभी भी एक APK फ़ाइल के साथ डाउनलोड के लिए उपलब्ध हैं। और यह साफ़ ज़ाहिर करता है कि ClubFactory सरकार के आदेश नहीं मान रही है।

इस बीच महीने की शुरुआत में सरकार ने बैन किए गये ऐप्स को 50 सवाल भेजे थे, जो उनकी मूल कंपनियों, कंपनियों की वित्तीय संरचना, लाभकारी मालिकों, और कंपनियों से जुड़ी कुछ जानकरियों से जुड़े हुए थे।

लेकिन दिलचस्प यह है कि जहाँ एक तरफ़ Bytedance के मालिकाना हक़ वाली TikTok को देश से प्रतिबंधित कर दिया गया है। लेकिन एक अन्य ऐप जो Bytedance को ही अपनी मूल कंपनी के रूप में गिनाता है, वह लगातार मज़बूत होता जा रहा है।

जी हाँ! हम बात कर रहें हैं म्यूज़िक स्ट्रीमिंग ऐप Resso की, जो इस साल मार्च में भारत में लॉन्च किया गया था, और जून में ही इसने 30 लाख के क़रीब डाउनलोड दर्ज किए। इस ऐप के दुनिया भर में हर जगह कुल मिलाकर  10.6 मिलियन इंस्टॉल दर्ज किए, जिनमें से लगभग 74% डाउनलोड अकेले भारत से ही थे।