Jio के लिए वक़्त काफ़ी अच्छा चल रहा है, या फिर कहें तो Jio ने अपना वक़्त अच्छा बना लिया है। क्योंकि अब इस कड़ी में Reliance Jio के लिए एक और अच्छी ख़बर है।

दरसल Wall Street का लोकप्रिय नाम Morgan Stanley ने अब आगामी तीन सालों में ई-कॉमर्स उद्यम JioMart से राजस्व में योगदान को आँकड़े हुए अब Reliance Retail बिज़नेस को लगभग $29 बिलियन की वैल्यूएशन पर आँका है।

दरसल इस ई-कॉमर्स के 2023 तक कुल खुदरा बिक्री में 15% तक की हिस्सेदारी रखने का अनुमान है, जो क़रीब $19 बिलियन तक हो सकता है, और इसी को देखते हुए कंपनी की वैल्यूएशन तय की गई है।

दिलचस्प यह है कि मुख्य खुदरा बिक्री राजस्व (मोबाइल रिचार्ज) और पेट्रो-रिटेल आदि को इसमें शामिल नहीं किया गया है  जिसमें कंपनी ने British Petroleum को भी हिस्सेदारी बेच दी है।

लेकिन ख़ास यह भी है कि यह वैल्यूएशन तक आंकी गई है, जब मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाली टेलीकॉम कंपनी Jio Platforms ने रिकॉर्ड रूप से $20 बिलियन का निवेश हासिल किया है, और उसके ज़रिए ही यह Reliance Retail में अब रणनीतिक और वित्तीय निवेशकों को शामिल करने की योजना बना रहा है।

ज़ाहिर है भारत में ई-कॉमर्स क्षेत्र में अभी भी काफ़ी संभावनाएँ शेष हैं, और Walmart द्वारा हाल ही में Flipkart में $1.2 बिलियन का निवेश इस बात का प्रमाण है।

ऐसे में अगर JioMart सही रणनीति और उचित निवेश के साथ बाज़ार में क़दम रखते हुए अपने विस्तार की कोशिशें करता है, तो बिना शक यह अपने पैर जमा सकता है। इसमें देखना यह है कि JioMart ने शुरू से ही गैर-मेट्रो शहरों की ओर मुख्य रूप से रूख करते हुए आगे बढ़ रहा है और यह इसको एक अच्छी बढ़त दे सकता है।

मौजूदा आँकड़ो की बात करें तो JioMart फ़िलहाल 200 शहरों में प्रतिदिन लगभग 2.5 लाख ऑर्डर दर्ज करने का दावा करता है। और इसने किराना दुकानदारो के साथ साझेदारी कर बिजनेस-टू-बिजनेस ऑर्डर की भी सेवा शुरू करने का काम किया है और अब वह Reliance Wholesale के माध्यम से ऑर्डर कर सकते हैं।

ध्यान देने वाली बात यह भी है कि 43वीं वार्षिक आम बैठक के दौरान RIL के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी ने कहा कि JioMart के विस्तार में तेजी लाई जा रही है और यह फैशन, हेल्थकेयर, इलेक्ट्रॉनिक्स और फार्मास्यूटिकल्स में भी प्रवेश करते नज़र आएँगें। यक़ीनन इन तमाम क्षेत्रों में Reliance का प्रवेश कई नए बदलावों का कारण बन सकता है।