कुछ ही घंटे पहले Cloudflare की वेब सेवा का इस्तेमाल करने वाली सैकड़ों वेबसाइटें डाउन हो गईं। ख़ास यह है कि इस दिग्गज़ वेब सेवा प्रदाता ने पहली बार ऐसी कोई बड़ी दिक्कत का सामना किया है।

Cloudflare बेशक अपने क्षेत्र की दुनिया की सबसे बड़ी इंफ़्रास्ट्रक्चर वाली कंपनी है, जो अपनी कई अहम सेवाओं के लिए जानी जाती है। इनमें DDoS अटैक, पहचान की चोरी आदि के लिए DNS सेवा जैसी अहम चीज़ें भी शामिल हैं।

दिलचस्प यह है कि Cloudflare पर चलने वाली वेबसाइट में जो प्रभावित रहीं वह थीं Discord, Netflix, Feedly Politico, Shopify, League of Legends, Gitlab, Patreon, Medium और Downdetector.आदि।

असल में Cloudflare मुख्यतः दुनिया भर में कई डेटा केंद्रों को अपनी निजी लाइनों के माध्यम से जोड़ने का काम करता है। इससे ज़ाहिर रूप से इन्हें अपनी क्लाइंट की वेबसाइटों को लोडिंग के लिहाज़ से तेज बनाने में मदद मिलती है। लेकिन इस बार कम्पनी का लोकप्रिय रूप से इस्तेमाल किए जाने वाला 1.1.1.1 DNS इस दिक्कत का कारण बना।

आपको बता दें यह परेशानी 27 मिनट तक चलने का दावा किया गया, और इस औरं Cloudflare ने अपने नेटवर्क ट्रैफ़िक में 50% की गिरावट दर्ज की।

कंपनी ने अपने आधिकारिक ब्लॉग में कहा,

“यह परेशानी/आउटेज इसलिए हुआ, क्योंकि नेवार्क से शिकागो तक एक संबंधित मुद्दे पर काम करने के दौरान हमारी नेटवर्क इंजीनियरिंग टीम ने अटलांटा में एक राउटर पर कॉन्फ़िगरेशन को किन्ही कारणों से बदला। इन कॉन्फ़िगरेशन में एक ग़लती हुई जिससे हमारे सभी ट्रैफ़िक अटलांटा को भेजे गए थे। इसने अटलांटा राउटर को अधिक लोड दे दिया और जिसके चलते Cloudflare नेटवर्क कई स्थानों पर विफल होने लगा।”

लेकिन अब यह जानते हुए कि ऐसी घटना कितनी बड़ी समस्या खड़ी कर सकती है, कंपनी ने कुछ ज़रूरी बदलावों की घोषणा की है। दरसल कंपनी अब BGP (Border Gateway Protocol) सेशन में एक लिमिट लागू करेगी जो 20 जुलाई से शुरू की जाएगी। इसके साथ ही कंपनी ने BGP Local Preference को कई Local Server Routes में बदला है ताकि कई जगहों के ट्रैफ़िक को मिक्स होने से रोका जा सके।