ola-to-lay-off-1000-employees

Ola इस बार सुर्ख़ियों में तो ज़रूर है, लेकिन इस बार ख़बर Ola के लिए अच्छी नज़र नहीं आ रही है। दरसल Ola Electric के चीफ़ बिज़नेस ऑफ़िसर संजय भान ने अपना पद छोड़ने का ऐलान किया है।

आपको बता दें संजय दिसंबर 2019 में ही मार्केटिंग और बिक्री विभाग का नेतृत्व करने के लिए कंपनी में शामिल हुए थे। इस बात का ख़ुलासा ईटी की एक रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से किया गया।

ज़ाहिर तौर पर संजय भान का यूँ कंपनी का पद छोड़ना भारत के सबसे अधिक वैल्यूएशन वाले इलेक्ट्रिक-वाहन स्टार्टअप के लिए एक बड़ा झटका है। ऐसा इसलिए भी क्योंकि उन्हें 2020 में डीलर पार्टनर की ऑन-बोर्डिंग का काम सौंपा गया था ताकि Ola Electric अगले साल तक अपने कमर्शियल ऑपरेशन का धमाकेदार आग़ाज़ कर सके।

दिलचस्प यह है कि ऑटोमोबाइल उद्योग की दिग्गज़ कंपनी Hero Motocorp में उन्होंने क़रीब तीन दशकों का लंबा समय बिताया, जहाँ वह इस दोपहिया निर्माता कंपनी में सेल्स विभाग के प्रमुख थे।

लेकिन बाद में उसको छोड़ संजय देश के सबसे अधिक वैल्यूएशन, क़रीब ₹7,490 करोड़ ($1 बिलियन) वाले इलेक्ट्रिक वाहन स्टार्टअप के साथ जुड़े, लेकिन उनका ऐसे अचानक से इस स्टार्टअप का साथ छोड़ना सबको हैरान ज़रूर कर रहा है।

आपको याद दिला दें इससे पहले जुलाई 2019 में Ola Electric के सह-संस्थापक आनंद शाह ने कंपनी में अपने दिन-प्रतिदिन के कार्यों को छोड़ कर पार्ट-टाइम रूप से काम करने का ऐलान कर दिया था। लेकिन इस बीच ख़ास यह भी है कि कई वरिष्ठ अधिकारियों ने Ola Cabs ने अपनी इस इलेक्ट्रिक वाहन फ़र्म में ट्रांसफ़र किया है।

इसका उदाहरण भी है, जैसे संदीप दिवाकरन, जो पहले Ola Cabs में रणनीतिक पार्टनरशिप के उपाध्यक्ष थे, और अब Ola Electric में रणनीति बना रहे हैं।

साथ ही हम सत्य नारायणन नागराजन का भी उदाहरण ले सकतें हैं, जो Ola Cabs में इंजीनियरिंग के वरिष्ठ निदेशक थे, और अब Ola Electric में सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग और आर्टिफ़िशल इंटेलिजेन्स का नेतृत्व कर रहे हैं।

लेकिन इतना तो साफ़ है कि Ola Cabs जल्द ही अपनी महत्वाकांक्षी Ola Electric संबंधी योजनाओं को पूरा करने के लिए इस प्रमुख पद को भरती नज़र आ सकती है।