jiobook-laptop-features-specifications-spotted-on-geekbench

Jio को लेकर अभी जैसे ही लग रहा था कि शायद अब Jio इस दौर के अपने कुछ आख़िरी छोटे निवेशों के साथ यह फ़ंडिंग दौर क्लोज़ कर सकता है, वैसे ही एक और बड़ी खबर ने इंटरनेट में सरगर्मी बढ़ा दी।

दरसल अब ख़बरों के मुताबिक़ Google अब मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाले Jio Platforms में $4 बिलियन का निवेश कर कंपनी में हिस्सेदारी ख़रीदने को लेकर बातचीत कर रहा है। ज़ाहिर सी बात है कि Google इस क़दम से अपने प्रतिद्वंदी Facebook के साथ भारतीय बाज़ार की रेस में बने रहना चाहता है।

दरसल मौजूदा समय में Reliance Industries भी चीनी दिग्गज़ Alibaba Group Holding Ltd. की तर्ज़ पर एक व्यापाक बिज़नेस ग्रुप के रूप में अपनी पहचान बना रहा है। और आलम यह है कि COVID-19 के दौरान भी क़रीब 60 दिनों के भीतर ही Jio Platforms ने Facebook से लेकर KKR जैसे दिग्गज़ निवेशकों से लगभग $16 बिलियन का निवेश हासिल कर लिया है।

लेकिन इतना तो ज़रूर है कि Google के लिए भारतीय बाज़ार अभी अनेकों संभावनाओं से भरे बाज़ार की तरह है, जिसमें कंपनी ऑनलाइन रिटेल, कंटेंट स्ट्रीमिंग, डिजिटल पेमेंट, शिक्षा और स्वास्थ्य आदि जैसे क्षेत्रों में ना सिर्फ़ व्यापाक रूप से काम कर रही है, बल्कि कई क्षेत्रों में अग्रणी भी बनी हुई है और ऐसे में भला इस बाज़ार में और आगे अपना प्रसार करने के लिए Jio से बेहतर साझेदार Google को शायद ही कोई दूसरा मिले।

दरसल Facebook से लेकर Intel जैसी वैश्विक तकनीकी दिग्गज़ कंपनियों ने भारत में अपने अपने क्षेत्रों में ख़ुद की स्थिति को और पुख़्ता करने के लिए Jio में निवेश किया है।

आपको बता दें Jio Platforms के पास देश भर में 355 मिलियन से अधिक ग्राहक हैं। और इस लिहाज़ से इन कंपनियों का साथ आना एक बड़े कदम की ओर साफ़ संकेत देता है। कंपनी के निवेशकों की सूची में अब तक General Atlantic, Silver Lake, Vista Equity Partners, KKR, Mubadala, ADIA, TPG, L Catterton, PIF, Intel और Qualcomm शामिल हो चुके हैं।

आपको बता दें इस निवेश के सिलसिले की शुरुआत Facebook से हुई थी, जिसनें Jio Platforms में 9.99% हिस्सेदारी के लिए $5.7 बिलियन का निवेश किया था।

2016 में Reliance Industries के मालिकाना हक तले शुरू हुआ Jio शुरू में ही अपनी मुफ्त सुविधाओं से एक बड़ा ग्राहक वर्ग हासिल करने में कामयाब रहा था। और धीरे धीरे अब यह देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी बन चुकी है।

यहाँ तक कि कंपनी ने पुराने टेलीकॉम दिग्गज Airtel के लिए भी कई चुनौतियां पैदा करते हुए, लगभग पछाड़ सा दिया है।

ख़ास यह है कि कल ही Google ने एक ऐलान करते हुए कहा कि आने वाले पांच से सात वर्षों में कंपनी भारत में क़रीब $10 बिलियन का निवेश करने की योजना बना रही है, जिससे कंपनी भारतीय बाज़ार में डिजिटल सेवाओं को अपनाने में तेजी लाने में मदद कर सके।

ज़ाहिर सी बात है भारत Google के लिए सबसे प्रमुख विदेशी बाज़ार है, जहाँ Search, YouTube और Android सहित इसके कई प्रोडक्ट काफ़ी बड़ी मात्रा में इस्तेमाल किए जा रहें हैं और इनके विस्तार की गति भी काफ़ी तेज है।

आँकड़ो की बात करें तो 1.3 बिलियन की आबादी वाला यह देश क़रीब 500 मिलियन ऑनलाइन उपयोगकर्ताओं के साथ आज 450 मिलियन से अधिक एक्टिव स्मार्टफोन का गढ़ बन चुका है। ऐसे में Jio में अगर Google द्वारा हिस्सेदारी ख़रीदने की पहल सफ़ल हो पाती है, तो वाक़ई हमें यह एक नई क्रांति के रूप में नज़र आ सकता है।