COVID-19 का असर अब कंपनियों की बैलेन्स शीट पर साफ़ नज़र आने लगा है। और ऐसा ही कुछ हुआ है Tata Consultancy Services के साथ, जिसका मुख्य रूप से अमेरिकी और यूरोपी बाज़ार में महामारी की वजह से पैदा हुए हालातों के चलते वित्तवर्ष 2021 की पहली तिमाही में लाभ का आँकड़ा (डॉलर के संदर्भ में) 20.8% की गिरावट के साथ $925 मिलियन और राजस्व में 6.3% की गिरावट के साथ ₹5.06 बिलियन रहा।

लेकिन इतना ही काफ़ी नहीं है शायद, क्योंकि विश्लेषकों ने भारत की इस सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर निर्यातक कंपनियों में से एक के लिए अभी और भी नुक़सान सहने की गुंजाइश जताई है।

वहीं रुपये के संदर्भ में बात करें तो TCS ने ₹7,008 करोड़ के मुनाफे में 13.8% की गिरावट दर्ज की जबकि जून में समाप्त तिमाही में राजस्व 0.4% बढ़कर ₹38,322 करोड़ हो गया।

वहीं ईटी की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ कंपनी सीईओ राजेश गोपीनाथन ने बताया है कि बैंकिंग और वित्तीय सेवाओं से जुड़े क्लाइंट ने फ़िलहाल कई प्रोजेक्ट वापस ले लिए हैं। लेकिन उनका कहना यह भी है कि COVID-19 का प्रभाव अब TCS के व्यवसाय पर धीरे-धीरे कम हो रहा है।

गोपीनाथन की मानें तो भले व्यवसाय थोड़े समय के लिए कम होता ज़रूर नज़र आ रहा था, लेकिन इंडस्ट्री को अब नए तरीक़ों से विकास की राह तलाशनी होगी।

इस बीच BSE में गुरुवार को टीTCS स्टॉक 0.6% गिरकर ₹2,204.35 पर आ गए, जबकि बेंचमार्क सेंसेक्स हरे रंग में 1.12% बढ़कर 36,737.69 अंक पर बंद हुआ।

दरसल दिलचस्प यह है कि अमेरिका ग्राहकों के लिहाज़ से TCS का मुख्य बाजार रहा है, लेकिन यहाँ महामारी के कारण कंपनी ने 6.1% की गिरावट दर्ज की। इसके साथ ही यूरोप के बाज़ार में भी COVID-19 का प्रभाव साफ़ नज़र आया और यहाँ कंपनी ने 8.5% की गिरावट दर्ज की।

आपको बता कम्पनी के लिए रिटेल बिज़नेस सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्रों में से रहा, जिसके चलते 12.9% और वहीं बैंकिंग और वित्तीय सेवाओं में की वजह से तिमाही में 4.9% की गिरावट दर्ज की गई।

और जैसा कि हमनें आप सबको बताया कि जानकारों के अनुसार कंपनी के लिए हालात अभी थोड़े और ख़राब हो सकतें हैं, क्योंकि TCS का प्रदर्शन अनुमानित रूप से आँकड़ों की तुलना से भी कम रहा।

इस बीच बता दें इस तिमाही तक कंपनी में 443,676 कर्मचारियों का आँकड़ा रहा, जो 4,788 लोग की छटनी के बाद बचे रहे।

ज़ाहिर तौर पर विशेषज्ञों का मानना ​​है कि प्रमुख सॉफ्टवेयर सेवाओं के लिए आगे आने वाला समय और चुनौतिपूर्ण हो सकता है। दरसल अमेरिका में COVID-19 से हालातों में अभी भी अधिक सुधार होता नज़र नहीं आ रहा है। और इसलिए ऐसा अनुमान है कि अभी यह चुनौती लम्बे वक़्त तक इंडस्ट्री को परेशान कर सकती है।

लेकिन इस बीच यह भी ग़ौर करने वाली बात है कि TCS ने फ़िलहाल $6.9 बिलियन का सौदा किया है, जो पिछले साल की इसी अवधि की तुलना में 20% अधिक है। साथ ही इसने कई सौ कर्मचारियों और ग्राहकों को ऑन-बोर्ड किया है।