EdTech स्टार्टअप Vedantu ने हाई स्कूल के छात्रों और IIT-JEE और NEET के लिए डाउट साल्विंग ऐप Instasolv में $2 मिलियन का निवेश किया है। आपको बता दें Vedantu ने Instasolv में यह निवेश प्री-सीरीज़ ए फंडिंग राउंड के तहत किया है।

दिलचस्प बात यह है EdTech क्षेत्र में Vedantu द्वारा किया गया पहला निवेश है। Instasolv असल में डाउट साल्विंग क्षेत्र में काम करने वाला स्टार्टअप है, जो मुख्यतः क्लास 6 से 12 तक के छात्रों, जो IIT-JEE और NEET की तैयारी कर रहें होतें हैं, उन्हें सेवाएँ प्रदान करता है। फ़िलहाल इसका दावा है कि इसके पास 7 मिलियन से अधिक सवाल और जवाब (Q&As) दर्ज हैं, जिनमें से यह दैनिक आधार पर लगभग 100,000 प्रश्नों का उत्तर देता है।

ख़ास यह है कि इस स्टार्टअप के ज़रिए Vedantu असल में टियर 3 और टियर 4 शहरों में अपना ध्यान केंद्रित करना चाह रहा है, जहां गुणवत्ता वाले शिक्षकों की पहुंच एक बढ़ती चुनौती है और जिसकी वह से छात्रों के बीच कई तरह के डाउट मौजूद होते हैं।

ज़ाहिर है COVID-19 के चलते हुए लॉकडाउन के दौरान अधिकतर रूप से पढ़ाई ने ऑनलाइन रूप अपना लिया है और बड़े से बड़े शिक्षण प्लेटफ़ोर्म पूरा प्रयास कर रहें हैं कि वह इस मौक़े का लाभ उठा कर अधिक से अधिक लोगों तक पहुँच हासिल कर पाएँ।

इस बीच Vedantu का यह भी दावा मंच तकइस दौरान इसने भी एक बड़े उछाल के तहत  अपने छात्रों के लिए 1 मिलियन से अधिक डाउट का समाधान किया है। साथ ही पिछले कुछ महीनों में Vedantu के मंच पर ग्राहकों की संख्या में तेजी से बढ़त हुई और यह 1।1 मिलियन के आँकड़े तक पहुँच गया।

आपको बता दें Vedantu फ़िलहाल Central Board of Secondary Education, Council For Indian School Certificate Examination और International Baccalaureate के लिए गणित, विज्ञान, सामाजिक अध्ययन और अंग्रेजी सहित सभी प्रमुख विषयों में 6 वीं से 12 वीं कक्षा के छात्रों के लिए प्लेटफ़ोर्म पर वन-ऑन-वन ट्यूशन प्रदान करता है।

अब तक Vedantu ने GGV Capital, Accel Partners, Omidyar Network, Westbridge Capital, Tiger Global आदि से क़रीब $85 मिलियन तक का निवेश हासिल करने में सफ़लता प्राप्त की है।