अच्छी ख़बर यह है कि एक बार फिर से ख़बरों में स्टार्टअप्स को मिलनें वाले निवेश की ख़बरें शामिल होने लगी हैं। और अब एक ऐसी ही ख़बर आई है ऑनलाइन ग्रोसरी डिलीवरी प्लेटफ़ोर्म MilkBasket को लेकर।

दरसल MilkBasket ने मौजूदा निवेशकों के साथ Inflection Point Ventures के नेतृत्व में $5.5 मिलियन का निवेश हासिल करने का ऐलान किया है। आपको बता दें इस दौर में Blume Ventures, Kalaari Capital, Mayfield India, Unilever Ventures और BeeNext भी बतौर निवेशक शामिल रहे।

MilkBasket में सबसे दिलचस्प बात यह है कि अपने अन्य प्रतिद्वंदियों के मुक़ाबले इसने अब तक बहुत ही कम निवेश दौरों को अंजाम दिया है। और इसका एक मुख्य कारण है कंपनी का स्थायी व्यवसाय मॉडल और संपूर्ण एंड-टू-एंड सप्लाई-चेन कंट्रोल। लेकिन शुरुआती सफलता के बाद भी COVID-19 लॉकडाउन के दौरान कुछ नए हालात बन गए, और इसलिए अब एक बार फिर से  स्टार्टअप ने और विस्तार करने का फैसला किया है, जिसके लिए शायद इसने यह निवेश दौर पूरा किया।

आपको बता दें असल में कम्पनी का मॉडल इतना सफ़ल माना जा रहा है कि उम्मीदतन कम्पनी इस साल के अंत तक लाभदायक भी बन सकती है। इस विषय में MilkBasket के सह-संस्थापक और सीईओ अनंत गोयल ने कहा;

“यह शायद हमारी लाभप्रद कम्पनी बनने की राह पर हासिल किया गया अंतिम निवेश है, और हम यह उम्मीद कर रहें हैं कि कम्पनी 2020 तक लाभप्रद कम्पनियों की लिस्ट में शुमार हो जाएगी। हमारे गुड़गांव, नोएडा और बेंगलूरु के संचालन पहले से ही लाभ के आँकड़ो को छूने जा रहें हैं और अन्य शहरों में भी प्रदर्शन लगातार अच्छा हो रहा है। और ऐसे में यह निवेश हमें किसी भी अकस्मात् घटना से निपटने के लिए बफ़र्स संसाधनों का प्रबंध करने में मदद करेगा।”

इस बीच बता दें कंपनी का यह दावा है कि अब तक इसने 30 मिलियन से अधिक ऑर्डर सफलतापूर्वक डिलीवर कर दिए हैं। कंपनी गुड़गांव, नोएडा, द्वारका, गाजियाबाद, हैदराबाद और बैंगलोर में 130K घरों में सेवा देने का दावा करती है। आपको इनके प्लेटफॉर्म अब फलों और सब्जियों, डेयरी, बेकरी और अन्य सभी FMCG श्रेणियों में 9000 से अधिक उत्पादों की एक लंबी लिस्ट मिल जाएगी।

वहीं COVID-19 के चलते विशेष उपायों के संदर्भ में अन्य कम्पनियों की तरह MilkBasket ने भी सख्त और कई तरह की सावधानियों को ध्यान में रखते हुए, कई कस्टमाइज़्ड पेशकशों की शुरुआत की है। MilkBasket ने कई शहरों में MbBulk and SCO (Senior Citizens Only) हेल्पलाइन जैसी सेवाओं की शुरुआत की है, ताकि लोगों को किराने के सामान की ज़रूरतों को सहूलियत के साथ पूरा किए जा सके।

वरिष्ठ नागरिक किराने के समान के लिए हेल्पलाइन का इस्तेमाल कर सकतें हैं, यह ऐसे बुजुर्गों के लिए बहुत मददगार है, जो अपने बेटों और बेटियों के साथ नहीं रह रहें हैं। साथ ही साथ Milkbasket स्टाफ हर समय मास्क और दस्ताने जैसी आवश्यक सुरक्षा उपायों का भी पूरा ध्यान बरतते नज़र आ रहा है।

इस बीच बात करें Inflection Point Ventures काफ़ी सक्रिय स्टार्टअप निवेशकों में से एक साबित हो रही है। कम्पनी ने हाल ही में $150K सीड राउंड के साथ एडटेक कंपनी Edvizo में भी निवेश किया था। आपको बता दें 2018 में एंजेल प्लेटफ़ोर्म की शुरुआत करने वाली कम्पनी ने अब तक हेल्थ टेक, डिलीवरी, EdTech और टेलीमेडिसिन जैसे उच्च संभावित क्षेत्रों से जुड़े स्टार्टअप्स में निवेश किया है और कर भी रही है।