Twitter और डोनाल्ड ट्रम्प के बीच की जंग शांत होते दिखाई नहीं दे रही है। दरसल पिछले कुछ हफ्तों में ट्रम्प अभी भी विवादास्पद ट्वीट पोस्ट करते रहते हैं, और Twitter भी उन्हें फेंक न्यूज़ तले चिह्नित करता रहता है।

और अब इसी झड़गे के बीच एक बार फिर से Twitter द्वारा ट्रम्प के एक और ट्वीट को “फ़ेक न्यूज़” के रूप में मार्क किया गया है। और दिलचस्प यह है कि इसके कुछ ही घंटों पहले Facebook ने भी ट्रम्प के कैम्पेन के एक विज्ञापनों को ‘Organised Hate’ के रूप में टैग करते हुए उसको हटा दिया था।

दरसल कुछ ही समय पहले भी Twitter ने ट्रम्प के एक ट्वीट को फेंक न्यूज़ के रूप में ‘फ़्लैग’ किया था, जिसके बाद लोगों को लग रहा था कि शायद अब ट्रम्प के द्वारा तथ्यों की जाँच करने के बाद ही सार्वजनिक मंच पर लोगों से जानकरियाँ साझा की जाएँगी। लेकिन एक बार फिर से ट्रम्प ने ट्विटर पर एक वीडियो पोस्ट किया है, जिसको कंपनी ने “मैनिप्युलेटेड मीडिया” के रूप में फ़्लैग कर दिया है।

दरसल वीडियो में दिखाया गया है कि CNN ने दो दोस्तों की एक बहुत लोकप्रिय क्लिप को गलत तरीके से पेश किया, जिसमें दावा किया गया कि मीडिया हाउस ने हेडलाइन चलाई, नस्लवादी बच्चे से आतंकित बच्चा भागता हुआ। जबकि असल बात यह है कि दोनों बच्चे दोस्त थे और सिर्फ मज़े कर रहे थे। बाद में यह कहा जाता है कि अमेरिका समस्या नहीं है, फेक न्यूज समस्या है।

इस वीडियो को “मैनिप्युलेटेड मीडिया” के रूप में चिह्नित किया गया था, जिस पर क्लिक करके आप एक लेख के बारे में पढ़ेंगें कि CNN ने वास्तव में वीडियो की रिपोर्ट कैसे की थी।

हम जानते हैं कि ट्रम्प ने शायद उस वीडियो को एक व्यंग्य के रूप में पोस्ट किया है। और उन्होंने यह दिखाना चाहा कि “फेक न्यूज कैसे एक समस्या है” और शायद यह भी कहा जाए कि उनका मक़सद यह दिखाना बिल्कुल भी नहीं था कि CNN ने ग़लत ढंग से विडियो को रिपोर्ट किया।

आपको बता दें वीडियो वास्तव में @carpedonktum द्वारा बनाया गया था, जो एक जाने मानें ट्रम्प Meme निर्माता है। लेकिन राष्ट्रपति के आधिकारिक खाते से ऐसी चीज़ें शेयर होना वाक़ई बहुत ही ग़ैर-ज़िम्मेदाराना और मैनिप्युलेटेड सा लगता है।

लेकिन इस बीच ट्विटर लगातार कुछ हफ्तों से ट्रम्प के कई असी पोस्ट को चिन्हित करता नज़र आ रहा है, वहीं दूसरी ओर Facebook काफी हद तक शांत था और बहुत सारे पोस्टों को अनदेखा करता जा रहा था।

लेकिन अब Facebook ने भी पाया कि चीज़ें बेहद बुरी होती जा रही हैं और ट्रम्प के अधिकारिक फेसबुक पेज द्वारा पोस्ट किए गए विज्ञापनों का एक सेट नाज़ी प्रतीकों तक से भरा था। और इसलिए कम्पनी ने ऐसी चीज़ों को हटा दिया है।

दरसल अमेरिका के सर्वोच्च नेता के अकाउंट से चले विज्ञापनों में उस लाल त्रिकोण को उल्टा करके दिखाया गया, जो कभी नाज़ियों द्वारा राजनेताओं की पहचान के लिए इस्तेमाल किया गया था। Facebook ने पोस्ट को हटाते हुए कहा कि घृणा की विचारधारा के प्रतीकों की अनुमति नहीं दी जा सकती, जब तक उन्हें निंदा व गलत बताते हुए पेश ना किया जाए।