Reliance के मालिकाना हक वाला Jio Platforms का निवेश हासिल करने का सिलसिला है कि थमने का नाम ही नहीं ले रहा।

सही समझे आप! एक बार फिर से Jio Platforms ने निवेश हासिल किया है, और इस बार कंपनी को निवेश मिला है सऊदी अरब की Public Investment Fund (PIF) से। और हर बार की तरह यह सौदा भी कंपनी के लिए छोटा नहीं है।

दरसल एक तरफ जहां Facebook से मिले निवेश को लेकर भारत में CCI ने जाँच शुरू कर दी है, वहीं Jio इन सबसे बेफिक्र PIF से आज से बाएँ और दाएँ धन जुटा रहे हैं, $1.5 बिलियन (~ ₹11,367 करोड़) हासिल करने में कामयाब रहा है।

आपको बता दें इस डील के तहत Jio Platforms में PIF ने 2.32% की हिस्सेदारी खरीदी है और इसके चलते यह डील अब Facebook के बाद Jio की दूसरी सबसे बड़ी डील साबित हुई है।

यह 9 हफ्तों में Jio द्वारा हासिल किया गया 11वां निवेश है ऐसे, आपको बता दें अब तक Jio Platforms कुल 24.7% की हिस्सेदारी बेंच कर करीब $15 बिलियन की रकम हासिल कर चुका है। और पिछले कुछ सौदों की तर्ज पर यह भी ₹4.91 लाख करोड़ के इक्विटी वैल्यूएशन और ₹5.15 लाख करोड़ के एंटरप्राइज वैल्यूएशन पर देखने को मिला है।

इस बीच कंपनी के निवेशकों की सूची में अब तक General Atlantic, Silver Lake, Vista Equity Partners, KKR, Mubadala, ADIA, TPG, L Catterton और अब PIF शामिल हो चुके हैं।

आपको बता दें इस निवेश के सिलसिले की शुरुआत Facebook से हुई थी, जिसनें Jio Platforms में 9.99% हिस्सेदारी के लिए $5.7 बिलियन का निवेश किया था।

2016 में Reliance Industries के मालिकाना हक तले शुरू हुआ Jio शुरू में ही अपनी मुफ्त सुविधाओं से एक बड़ा ग्राहक वर्ग हासिल करने में कामयाब रहा था। और धीरे धीरे अब यह देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी बन चुकी है।

यहाँ तक कि कंपनी ने पुराने टेलीकॉम दिग्गज Airtel के लिए भी कई चुनौतियां पैदा करते हुए, लगभग पछाड़ सा दिया है।

इस बीच Jio Apps आदि को देखते हुए ऐसा लगता है कि कंपनी अब भारत में Amazon जैसी कंपनी बनाना चाहती है। हालांकि कुछ मुश्किलें कंपनी के सामने जरूर हैं, जैसे हाल ही में Competition Commission Of India द्वारा Facebook-Jio डील की जाँच, जिसमें यह सुनिश्चित किया जाएगा कि कहीं ये कंपनियां अपने बड़े उपयोगकर्ता वर्ग के डेटा का गलत इस्तेमाल तो करती नजर नहीं आएंगी?