google-layoffs-alphabet-to-cut-12000-jobs-worldwide-including-india

आप सबनें सुना ही होगा हाल ही में Google ने अपने जब अपने Play Store से कई ऐपों को हटाया, तब इसक क़दम के चलते सोशल मीडिया में Google की आलोचना भी हुई।

लेकिन अब दुनिया की सबसे बड़ी तकनीकी दिग्गज कंपनियों में से एक Google ने अब इन ऐप्स को बैन करने के को लेकर लग रहे तमाम आरोपो का खंडन करते हुए ख़ुद का बचाव किया है। आपको बता दें इन बैन हुए ऐप्स में से Remove China App नामक ऐप भी शामिल था, जो फ़ोनों से चीनी ऐप्स की पहचान कर उन्हें हटाने की सुविधा प्रदान करता था।

लेकिन इस विषय पर अपना बचाव करते हुए ईटी की रिपोर्ट के अनुसार Google ने अपने एक ब्लॉग पोस्ट में लिखा;

“हम एक ऐसे ऐप की कभी भी अनुमति नहीं देते हैं जो उपयोगकर्ताओं को थर्ड पार्टी ऐप्स को हटाने या अक्षम करने या डिवाइस सेटिंग्स या सुविधाओं को बदलने आदि की सुविधा देता हो।”

दरसल Google की मानें तो एक एक स्वस्थ प्रतिस्पर्धी माहौल सुनिश्चित करने के लिए कम्पनी द्वारा कई नियमों का पालन किया जाता है, ताकि डेवलपर्स और इनोवेशन को एक बेहतर जगह दी जा सके।

दरसल आपको बता दें कि मंगलवार को नीति के उल्लंघनों का हवाला देते हुए, Google Play Store ने Remove China Apps को Play Store से हटा दिया था, यह ऐप असल में TikTok, Helo, CamScanner और ShareIt जैसे लोकप्रिय चीनी ऐप्स की पहचान कर उन्हें अनइंस्टॉल करने के लिए प्रेरित करता है।

इससे फले भी Google ने हाल ही में लोकप्रिय हुए एक और ऐप Mitron को भी Play Store से विदा कर दिया था, जिसपर कम्पनी ने दूसरे ऐप (TiKTok) को क्लोन करने का आरोप लगाया था।

लेकिन बाद में सोशल मीडिया पर Google के इस क़दम को लेकर कुछ लोगों ने कम्पनी की आलोचना करनी श्रु कर दी और चीन के साथ Google के संबंधों का हवाला देते हुए कम्पनी पर कई कथित आरोप लगाने लगें।

ईटी की रिपोर्ट के मुताबिक़ इसी कड़ी में नई दिल्ली स्थित सेंटर फॉर पॉलिसी रिसर्च के भू-वैज्ञानिक और रणनीतिक अध्ययन के प्रोफेसर, Brahma Chellaney ने कहा कि Google ने चीन के निगरानी    संबंधी मक़सद में मदद के लिए भारत में लोकप्रिय होती Remove China Apps और Mitron जैसी ऐप्स को हटा दिया।

लेकिन स्वाभाविक रूप से Google ने सामनें आकर इन सभी बातों का खंडन करते हुए बताया कि कम्पनी का मक़सद Google Play को उपभोक्ताओं के लिए एक सुरक्षित और स्थायी प्लेटफ़ोर्म के रूप में बनाए रखने का है। और इसलिए वह वैश्विक नीतियों को काफ़ी गम्भीरता से लेते हुए उसका पूरा पालन करती है।