महामारी के चलते बनी लॉकडाउन की स्थिति से जहाँ एक ओर देश में तमाम कंपनियां कर्मचारियों को छटनी करने के लगातार ऐलान करती जा रहीं हैं, वहीँ आज इसके विपरीत भी एक खबर देखनें को मिली।

यह खबर जुड़ी हुई है, Amazon India से, जिसनें ऑनलाइन ऑर्डर की संख्या में भारी वृद्धि को देखते हुए देश के अपनी सप्लाई चेन विभाग में करीब 50,000 अस्थायी नौकरियां देने की बात कही है।

यह फैसला ऐसे वक़्त में आया है जब सरकार ने लॉकडाउन 4.0 के ऐलान के बाद अब ई-कॉमर्स कंपनियों को अपनी अधिकांश सुविधाओं की पेशकश हेतु मंजूरी प्रदान कर दी है।

इस बीच इन अस्थायी नौकरियों का ऐलान करते हुए कंपनी ने बताया कि वह अपने सप्लाई चेन विभाग में अधिकतर कर्मचारियों को अवसर प्रदान करेगी, जिसमें पैकेजिंग ले लेकर, शिपमेंट लानें और ग्राहकों तक पहुँचानें जैसे तमाम काम होतें हैं।

दरसल इन नयी अस्थायी नौकरियों में कंपनी इन कमर्चारियों को अपने नए लॉन्च किये गये Amazon Flex के तहत पार्ट-टाइम में रियायती तरीकें से काम की पेशकश करती नजर आएगी।

कंपनी के अनुसार इसके जरिये वह इस महामारी की स्थिति में जरूरतमंद और काम की तालश कर रहें करीब 50,000 लोगों को एक सुरक्षित माहौल देते हुए रोजगार प्रदान कर थोड़ी राहत दे सकेगी।

जाहिर है कि भारत में अन्य ई-कॉमर्स खिलाड़ियों की तरह Amazon भी कोरोना वायरस के चलते हुए लॉकडाउन में कमर्चारियों के एक बड़े वर्ग के विस्थापन की वजह से ऑन-ग्राउंड स्टाफ की कमी का सामना कर रहा है।

लेकिन अब जब कंपनी को करीब करीब दो महीनें बाद जब वापस अपनी सेवाओं को शुरू करने का मौका मिला है, तो ऐसे में कंपनी किसी भी अन्य मुद्दों से व्यापार प्रभावित नहीं होनें देना चाहती है।

पर इतना जरुर है कि Amazon ने यह आश्वासन दिया है कि यह अपने मौजूदा और नए शामिल होने वाले सभी कमर्चारियों की सुरक्षा का पूरा ख्याल रखेगा और सभी जरूरी मानकों का पालन करेगा।

कंपनी का दावा है कि कमर्चारियों द्वारा महामारी से बचने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग, बीमारी संबंधी छुट्टी, मास्क पहनना अनिवार्य करने, थर्मल स्कैनिंग आदि का नियमित रूप से ध्यान रखा जाएगा, खासकर गोदामों और वितरण केन्द्रों की स्वच्छता का भी।

आपको बता दें Amazon ने हाल ही में अपनी एक बैठक के दौरान यह कहा था कि कंपनी वैश्विक स्तर पर COVID-19 को लेकर करीब $4 बिलियन खर्च करेगी। साथ ही कंपनी ने कहा कि वह $350 मिलियन डॉलर खर्च करके अतिरिक्त कर्मचारियों को काम देगी और साथ ही उन्हें उचित मुआवजें भी दिए जायेंगें।

आपको बता दें हाल ही में अमेरिका में महामारी के कारण ऑर्डर्स की संख्या में हुए भारी इजाफे के चलते कंपनी ने 175,000 अतिरिक्त कर्मचारियों को काम पर रखा है। साथ ही साथ भारत में कंपनी ने डिलीवरी और वेयरहाउस श्रमिकों के वेतन को लगभग दोगुना कर दिया है।